Khas-KhabarRanchi

6th JPSC: जिस संकल्प का हवाला देकर जोड़ा गया न्यूनतम मार्क्स, कोर्ट में उसे पेश नहीं कर पाया आयोग

कोर्ट ने एक सप्ताह में मांगा जवाब

Ranchi:  झारखंड हाइकोर्ट ने जेपीएससी को फूल मार्क्स में न्यूनतम क्वालिफिकेशन मार्क्स जोड़े जाने के मामले को लेकर एक सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा है.

कृष्ण मुरारी चौबे एवं अन्य बनाम झारखंड लोक सेवा आयोग और अन्य मामले को लेकर सोमवार को हाइकोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि छठी जेपीएससी में कई ऐसे अभ्यर्थियों को पास घोषित किया है जो एक या एक से अधिक पेपर्स में न्यूनतम क्वालीफाइंग मार्क्स तक नहीं प्राप्त कर सके हैं. वरिष्ठ अधिवक्ता ने दस्तावेजों के साथ यहां तक कहा कि इस बार झारखंड वित्त सेवा के लिये ऐसे भी अभ्यर्थियों का चयन किया गया है जो अर्थशास्त्र वाले पेपर में ही मिनीमम क्वालीफाइंग मार्क्स प्राप्त नहीं कर पाये हैं.

इसे भी पढ़ेंःराजकुमार साहू हत्याकांड का खुलासा, रांची पुलिस ने 6 आरोपियों को किया गिरफ्तार

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसपर जेपीएससी के वकील ने विज्ञापन का हवाला देते हुए कहा कि इसमें टोटल मार्क्स में ही न्यूनतम अहर्तांक यानी क्वालिफिकेशन मार्क्स की बात की गयी है. इस पर जज ने पूछा कि कहां लिखा है. तब सरकार की ओर से आये अधिवक्ता ने कार्मिक के किसी तथाकथित संकल्प का हवाला दिया. उसपर जज ने कहा कि कहां है संकल्प. तो प्रतिवादी वकीलों के पास इसका जवाब नहीं था. उन्होंने इस संकल्प को पेश करने के लिये कुछ समय की मांग की. जिसपर जज ने करीब एक सप्ताह का समय दिया है. साथ ही आयोग को मौखिक आदेश में शांत रहने को कहा है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

गौरतलब है कि विज्ञापन या सिलेबस किसी से भी आज आयोग इस बात को प्रमाणित नहीं कर पाया कि न्यूनतम क्वालीफाइंग मार्क्स, टोटल मार्क्स के लिये है. दूसरी ओर 6ठी जेपीएससी पर 19 जून को मुकेश कुमार और 22 जून को राहुल कुमार की अहम सुनवाई होनी है. यह जानकारी जेपीएससी अभ्यर्थी अनिल पन्ना, राज कुमार मिंज और शशि पन्ना ने दी.

इसे भी पढ़ेंःपीएम केयर फंड के पैसे से BJP ने विपक्ष के विधायकों-सांसदों को खरीदाः कुमार गौरव

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button