Court NewsJharkhandLead NewsRanchi

6TH JPSC : चार कैटेगरी में 16 याचिकाएं बांट कर पूरी हुई सुनवाई

Ranchi : छठी जेपीएससी को लेकर झारखंड हाई कोर्ट में विभिन्न तरह की 35 से 40 याचिका दायर की गयी थी. इनमें याचिकाओं कि महत्ता को देखते हुए कोर्ट ने 16 महत्वपूर्ण याचिकाओं को चार केटेगरी में बांट कर सुनवाई की.

इस बाबत उम्मीदवारों की ओर से पक्ष रख रहे पूर्व महाधिवक्ता अजित कुमार ने बताया कि इन 16 याचिकाओं को चार श्रेणी में बांट दिया गया था. जिनमें दो महत्वपूर्ण याचिका थी.
ये याचिका हिंदी-इंग्लिश क्वालिफाइंग को हटाना और 40 फीसदी से कम अंक लाने वाले छात्रों को हटाने को लेकर था. 40 फीसदी से कम अंक से संबंधित याचिका सुमित कुमार ने दायर की थी.

उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट का यह ऐतिहासिक निर्णय है जो उम्मीदवारों के हित में है. मालूम हो कि झारखंड हाई कोर्ट ने छठी जेपीएससी सिविल सेवा परीक्षा का मेरिट लिस्ट रद्द करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने आयोग को कहा है कि वह आठ हफ्ते के भीतर नयी मेरिट लिस्ट जारी करें.

इसे भी पढ़ेंः6th JPSC : झारखंड हाईकोर्ट ने मेरिट लिस्ट रद्द की, आठ हफ्ते में नयी मेरिट लिस्ट जारी करने का आदेश

advt

गलत तरीके से ज्वाइन कराया गया

उम्मीदवारों ने बताया कि छठी जेपीएससी में तमाम गड़बड़ियां हुईं. जिसका लगातार विरोध होता रहा. 40 फीसदी से कम अंक लाने वाले छात्रों को गलत तरीके से ज्वाइन करा दिया गया. ऐसे 90 से 100 छात्र हैं जिन्हें गलत तरीके से बहाल करा दिया गया.

इसे भी पढ़ें :हॉर्स ट्रेडिंग मामले ने सिविल कोर्ट ने 10 जून तक फैसला रखा सुरक्षित

अब क्या होगा

40 फीसदी से कम अंक लाने वाले छात्र जिन्हें गलत तरीके से बहाल कराया गया था, वैसे सारे लोगों को हटाया जायेगा. मेधा सूची नए सिरे से बनाया जायेगा और वैसे छात्र 40 फीसदी या उससे अधिक अंक मिले हैं, उन्हें ज्वाइन कराया जायेगा. इस दौरान सर्विस माइग्रेशन यथावत रहेगा.

इसे भी पढ़ें :MGNREGA:15 वर्षों में भी नहीं बदला मनरेगा कर्मियों के मानदेय का पैटर्न, केंद्र को लिखी गयी चिट्ठी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: