Lead NewsNational

कश्मीरी पंडितों की घर वापसी के लिए तैयार होंगे 6000 ट्रांजिट फ्लैट, काम में तेजी का निर्देश

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने अधिकारियों को सक्रिय कदम उठाने को कहा

Srinagar : साल 1990 में जम्मू-कश्मीर से पलायन कर चुके कश्मीरी पंडितों की केंद्र शासित प्रदेश में फिर से वापसी के लिए काम तेज कर दिया गया है. उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के निर्देश के बाद प्रशासन ने कश्मीर में पंडित परिवारों के लिए 6,000 से अधिक आवासों को तैयार करने के काम को तेज कर दिया है. इसके अलावा देश के विभिन्न हिस्सों से घाटी में प्रवासी समुदाय की वापसी को बढ़ावा देने के लिए कश्मीरी पंडितों के पंजीकरण का भी काम तेज हो गया है.

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने शनिवार को आपदा प्रबंधन, राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण (डीएमआरआर एंड आर) विभाग की बैठक की अध्यक्षता की. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को कश्मीरी पंडित समुदाय की वापसी की सुविधा के लिए सक्रिय कदम उठाने का निर्देश दिया. मनोज सिन्हा ने कहा, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और देश और विदेश के अन्य हिस्सों में रहने वाले कई कश्मीरी पंडित परिवार हैं जो घर लौटने या खुद को पंजीकृत करने के इच्छुक हैं. संचार के उचित माध्यमों का उपयोग कर उन तक पहुंच बनाने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें :देश में बढ़ती महंगाई के खिलाफ राजद का प्रदर्शन, तेजस्वी के आह्वान पर महंगाई का विरोध शुरू

इन इलाकों में बनाये जा रहे हैं फ्लैट

जम्मू-कश्मीर प्रशासन कश्मीर में प्रवासी पंडित कर्मचारियों के लिए 6,000 ट्रांजिट फ्लैट स्थापित कर रहा है, जिसमें दक्षिण कश्मीर के कुलगाम में 208 और मध्य कश्मीर के बडगाम में 96 शामिल हैं. इसके अलावा गांदरबल, शोपियां, बांदीपोरा और उत्तरी कश्मीर के बारामूला और कुपवाड़ा जिलों में 1,200 ट्रांजिट आवास तैयार किए जाएंगे.

इसे भी पढ़ें :तीसरी लहर : टेस्टिंग, ट्रैकिंग, आइसोलेशन, ट्रीटमेंट और वैक्सीनेशन से ही थम सकती है कोरोना की थर्ड वेब

कश्मीरी प्रवासियों की पूरी आबादी का किया जायेगा पंजीकृत

मामले से संबंधित अधिकारी ने बताया कि सात अलग-अलग स्थानों पर ट्रांजिट फ्लैटों के लिए जमीन की पहचान की जा चुकी है. उपराज्यपाल ने कहा, ‘सबसे पहले, हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कश्मीरी प्रवासियों की पूरी आबादी जम्मू-कश्मीर सरकार के साथ पंजीकृत हो.’

इसे भी पढ़ें :BSNL ने ग्राहकों को बकरीद पर दी ईदी, अनलिमिटेड फ्री नाइट डेटा सहित कई सुविधाएं दीं

Advt

Related Articles

Back to top button