GiridihJharkhand

रोड रॉबरी के आरोप में 6 गिरफ्तार, अपराधियों के पास से हथियार और नकद भी बरामद

विज्ञापन

Giridih. सड़क लूट की घटना को अंजाम देने वाले अंतरजिला गिरोह के 6 अपराधियों को बिरनी थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इन्हें बरमसिया चौक के पास से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार अपराधियों के पास से पुलिस ने एक देसी पिस्तौल के साथ तीन जिंदा कारतूस और ग्राहक सेवा केन्द्र के अलग-अलग संचालकों से लूटे गए 25 हजार नकद रुपये बरामद किया है.

पुलिस ने इनके पास से कोडरमा के नवलशाही इलाके में एक बाइक सवार से लूटे गए मोबाइल फोन और दो बाइक भी बरामद करने में सफलता पायी. इस बाबत एसपी अमित रेणु ने बताया कि पुलिस के हत्थे चढ़े सभी अपराधियों की उम्र 35 के करीब है. गिरफ्तार अपराधियों में नवलशाही के बेको डगरनवा निवासी अपराधी विनोद राय, गिरिडीह के जमुआ के मिर्जागंज निवासी बबलू यादव, धनवार थाना क्षेत्र के एगडारा गांव निवासी रंजीत कुमार यादव व रवि यादव के अलावे सरिया थाना क्षेत्र के बंदखारो गांव निवासी लालजीत कुमार, जमुआ के हरला गांव निवासी बाबूलाल यादव शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- गिरिडीह: सड़क हादसे में दो महिलाओं की मौत, एक जख्मी

advt

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार सभी अपराधियों का अपराधिक इतिहास है. पुलिस ने इन अपराधियों को शुक्रवार की देर रात बिरनी के झांझपुल के समीप बाइक और हथियार के साथ उस वक्त गिरफ्तार किया था, जब सभी अपराधी बिरनी के डबरसेनी इलाके से एक लूट की घटना को अंजाम देकर फरार हो रहे थे. फरार होने के क्रम में धनवार थाना पुलिस को सभी अपराधी चकमा देकर भागने में सफल रहे. इसके बाद जिले के सभी थानों को अलर्ट किया गया.

इसी दौरान इन अपराधियों को पुलिस ने झांझपुल के समीप से दबोचने में सफलता पायी. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार सभी अपराधी पूर्व में नवलशाही में एक ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालक से 38 हजार लूट की घटना में जेल जा चुके हैं. वहीं बिरनी में ही बीते माह ही एक बाइक सवार से सवा लाख नकद रुपयों के साथ लैपटॉप लूटकर फरार हुए थे. जबकि इस माह में सरिया में एक सड़क लूट की घटना को अंजाम दिया था.

ये भी पढ़ें- झारखंड लैंड म्यूटेशन बिल के लिये सर्वदलीय बैठक कर चर्चा करें CM, राज्य में जमीन का मामला पेचीदा : वामदल

एसपी ने यह भी बताया कि अंतरजिला गिरोह के इन सदस्यों में कोई रैकी करता. रैकी के बाद पूरे घटना को अंजाम दिया करता था. लूट के इन घटनाओं को अंजाम देकर सभी अपराधी कोडरमा में छिप जाते थे.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button