न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

विजय माल्या, नीरव मोदी सहित एक-दो नहीं, 58 भगोड़े वापस लाने की जुगत में सरकार

विजय माल्या, नीरव मोदी,  मेहुल चौकसी नितिन, चेतन संदेसरा, ललित मोदी सहित कुल 58 ऐसे भगोड़ों को सरकार वापस लाना चाहती है, जो भारत में घोटाले करने के बाद विदेशों में रह रहे हैं.

1,058

NewDelhi : विजय माल्या, नीरव मोदी,  मेहुल चौकसी नितिन, चेतन संदेसरा, ललित मोदी सहित कुल 58 ऐसे भगोड़ों को सरकार वापस लाना चाहती है, जो भारत में घोटाले करने के बाद विदेशों में रह रहे हैं.  सभी भगोड़ों के लिए इंटरपोल में रेड कॉर्नर नोटिस और इनके प्रत्यर्पण की मांग की गसी है.  केंद्र सरकार ने बुधवार को संसद में यह जानकारी दी.  इस क्रम में सरकार ने यह भी कहा कि इन 58 भगोड़ों के अलावा सरकार और सीबीआई, ईडी, डीआरआई जैसी जांच एजेंसियों ने 16 अन्य प्रत्यर्पण की मांगें यूएई, यूके, बेल्जियम, इजिप्ट, अमेरिका, ऐंटीगुआ जैसे देशों में दायर कर रखी हैं.  बता दें कि लोकसभा में बुधवार को विदेश मंत्रालय ने एक जवाब में बताया है कि अक्टूबर में सरकार ने वीवीआईपी हेलिकॉप्टर खरीद घोटाले में दो अन्य बिचौलियों के प्रत्यपर्ण की मांग इटली से की है. बताया गया कि इससे पहले, सीबीआई ने बिचौलिए कार्लो जीरोसा के प्रत्यर्पण की मांग नवंबर 2017 में और गुइडो हैश्क के लिए जनवरी 2018 में मांग की थी.

eidbanner

हालांकि इटली ने इन मांगों को खारिज कर दिया था.  जांच अधिकारियों के अनुसार इन दोनों बिचौलियों को भारत लाये जाने से वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले की जांच आगे बढ़ पायेगी, क्योंकि इस मामले में क्रिस्चेन मिशेल का पहले ही यूएई से प्रत्यर्पण किया जा चुका गया है.

लुक आउट, रेड कॉर्नर नोटिस और प्रत्यर्पण मांगों के जरिए भगोड़ों की देश वापसी करने की कोशिश

विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने लोकसभा में बताया कि इस सभी भगोड़ों की सफलतापूर्वक देश वापसी लुक आउट नोटिस, रेड कॉर्नर नोटिस और प्रत्यर्पण मांगों के जरिए सुनिश्चित की जा रही है.  भगौड़े नीरव मोदी के बारे में विदेश मंत्रालय ने  संसद में कहा है कि उसके खिलाफ पहले ही रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जा चुका है और इंग्लैंड में उसके खिलाफ अगस्त में प्रत्यर्पण की दो अन्य मांगें भी भेजी जा चुकी हैं.  उसके भाई नीशल और नजदीकी सहयोगी सुभाष परब के लिए भी यूएई से प्रत्यर्पण की मांग की गयी है. नीशल के लिए बेल्जियम और परब के लिए इजिप्ट से भी प्रत्यर्पण की मांग की गयी है. इस क्रम में ऐंटिगुआ से मेहुल चौकसी का प्रत्यर्पण मांगा गया है. बताया कि उसके खिलाफ हाल में इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया है.  इसी तरह गुजरात के बिजनसमैन आशीष जोबनपुत्र और उसकी पत्नी प्रीति के लिए अमेरिका से और पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी के लिए सिंगापुर से प्रत्यर्पण किए जाने की मांग की गयी है.

कुछ अन्य भगोड़ों के लिए हांगकांग, यूएई और मॉरिशस में प्रत्यर्पण याचिकाएं भेजी गयी हैं.  स्टर्लिंग बायोटेक के जरिए पांच हजार करोड़ का बैंक फ्रॉड करने वाले संदेसरा भाइयों के लिए सरकार ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है.  जान लें कि कुछ दिनों पूर्व ही इंग्लैंड के एक कोर्ट ने शराब व्यापारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण की  मंजूरी दे दी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: