Opinion

67 साल में देश पर कर्ज 54.90 लाख करोड़, मोदी सरकार में 34.90 लाख करोड़ बढ़कर हुआ 89.80 लाख करोड़

Girish Malviya

मोदीराज में देश कर्ज के गहरे भँवर में डूबता हुआ दिखाई दे रहा है, आपको जानकर बेहद आश्चर्य होगा कि आजादी के 67 सालो में यानी 2014 तक देश के ऊपर कुल कर्ज 54.90 लाख करोड़ रुपए था. और मोदी जी के मात्र सवा पाँच साल के राज में इस कर्ज में लगभग 34 लाख करोड़ की बढ़ोत्तरी हो गयी है.

सरकारी कर्ज के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, जून 2019 के अंत में सरकार की कुल बकाया देनदारी बढ़कर 88.18 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गई है, जो मार्च 2019 के अंत में 84.68 लाख करोड़ रुपए पर थी.

advt

यह मैं नहीं कह रहा हूँ, यह सरकारी आँकड़े हैं, जो वित्त मंत्रालय सालाना स्टेटस रिपोर्ट के जरिए जारी करता है, यह प्रक्रिया 2010-11 से जारी है.

इसे भी पढ़ें – News Wing Impact: जिस डिफेंस लैंड पर माफिया ने किया था कब्जा, प्रशासन ने रद्द किया उसका म्यूटेशन

यानी आप खुद सोचिए कि 67 साल में 54 लाख करोड़ और कहां सिर्फ सवा 5 साल में 34 लाख करोड़ ….यह लोग न्यू इंडिया बनाने की बात करते हैं!…बताइये! ऐसे बनाया जाएगा न्यू इंडिया?…. देश को कर्ज में डुबोकर?

एक बात और गौर करिए कि सरकारी कर्ज के इन आंकड़ों के मुताबिक, मार्च 2019 के अंत में 84.68 लाख करोड़ रुपए का कर्ज मात्र 3 महीने में बढ़कर जून 2019 के अंत में यह 88.18 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया….यानी अब हर महीने 1 लाख करोड़ से भी अधिक का कर्ज लिया जा रहा है यह है असलियत न्यू इंडिया की……जहाँ एक-एक भारतीय के माथे लगभग 65 हजार का कर्ज़ है….

adv

आज भी एक हौलनाक खबर आयी है कि विदेशी कर्ज में पिछले 5 साल की तुलना में पिछले एक साल में सबसे अधिक तेजी से बढ़ोतरी हुई है. साल 2014 की तुलना में विदेशी कर्ज 11.8 फीसदी बढ़ गया है, भारत के विदेशी कर्ज की कुल विकास दर जून 2014 से जून 2018 के बीच 3.16 फीसदी रही. वहीं पिछले साल यह दर 8.6 फीसदी तक पुहंच गयी है, दो साल के दौरान विदेशी कर्ज में 51000 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी दर्ज की गयी है.

इसे भी पढ़ें – #VandeBharatMaaKeDwarः अमित शाह ने रवाना की वंदे भारत एक्सप्रेस, दिल्ली से कटरा जाने में बचेंगे चार घंटे

लंबी अवधि के बकाया कर्ज की राशि में पिछले एक साल में 8 फीसदी की वृद्धि हुई है. यह पिछले एक साल में 414 अरब डॉलर से बढ़कर 447 अरब डॉलर पहुंच गया है. वहीं, छोटी अवधि के बकाया कर्ज में 11.1 फीसदी की तेजी से बढ़ोतरी हुई है. यह पिछले एक साल में 98.7 अरब डॉलर से 109.7 अरब डॉलर पहुंच चुका है.

शायद अब आप समझ पाए कि क्यों मोदी सरकार सार्वजनिक संपत्तियों, सरकारी कंपनियों और देश में उपलब्ध संसाधनों को जल्द से जल्द बेच देने की जल्दी मचा रही है, जिस व्यक्ति पर कर्ज़ गले तक आ जाता है तो उसकी सबसे पहली नजर पुरखों की जोड़ी हुई संपत्ति पर ही होती हैं!…

इसे भी पढ़ें –पलामू: 37 साल से बंद पड़ी सोकरा ग्रेफाइट माइंस क्या फिर से चालू होगी? या है चुनावी लॉलीपॉप

(लेखक आर्थिक मामलों के सलाहकार हैं, ये इनके निजी विचार हैं)

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button