न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नोटबंदी के बाद 50 लाख लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा : रिपोर्ट

बेंगलुरु स्थित अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सेंटर ऑफ सस्टेनेबल एम्प्लॉयमेंट (CSE) द्वारा मंगलवार को जारी  State of Working India 2019 रिपोर्ट में यही कह रही है.  

189

NewDelhi : 2016 से 2018 के बीच ल्गभग 50 लाख लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आठ नवंबर 2016 को किये गये नोटबंदी के फैसले के बाद पिछले दो सालों में 50 लाख लोगों की नौकरियां चली गयी हैं. एक नयी रिपोर्ट के अनुसार, खासकर असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले 50 लाख लोगों ने नोटबंदी के बाद अपना रोजगार खो दिया.  बता दें कि बेंगलुरु स्थित अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सेंटर ऑफ सस्टेनेबल एम्प्लॉयमेंट (CSE) द्वारा मंगलवार को जारी  State of Working India 2019 रिपोर्ट में यही कह रही है.

mi banner add

सीएसई के अध्यक्ष और रिपोर्ट लिखने वाले मुख्य लेखक प्रोफेसर अमित बसोले ने हफिंगटनपोस्ट से कहा कि, इस रिपोर्ट में कुल आंकड़े हैं. इन आंकड़ों के हिसाब से 50 लाख रोजगार कम हुए हैं. कहीं और नौकरियां भले ही बढ़ी हों लेकिन ये तय है कि पचास लाख लोगों ने अपना नौकरियां खोयी  हैं.

इसे भी पढ़ें- मोदी लहर खत्म? क्यों पोलस्टर्स बीजेपी के लिए भविष्यवाणियां कर रहे हैं…

यह अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं है

यह अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं है. बसोले  के अनुसार नौकरियों में गिरावट नोटबंदी के आसपास हुई सितंबर और दिसंबर 2016 के बीच चार महीने की अवधि में आयी. यह  दिसंबर 2018 में अपने स्थिरांक पर पहुंची. रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा किये जाने के आसपास ही नौकरी की कमी शुरू हुई, लेकिन उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर इन दोनों के बीच संबंध पूरी तरह से स्थापित नहीं किया जा सकता है. यानी रिपोर्ट में यह साफ तौर पर बेरोजगारी और नोटबंदी में संबंध नहीं दर्शाया गया है.

सेंटर फॉर सस्टेनेबल एम्लॉयमेंट की ओर से जारी इस रिपोर्ट में बताया गया है कि अपनी नौकरी खोने वाले इन 50 लाख पुरुषों में शहरी और ग्रामीण इलाकों के कम शिक्षित पुरुषों की संख्या अधिक है. इस आधार पर रिपोर्ट में निष्कर्ष निकाला गया है कि नोटबंदी ने सबसे अधिक असंगठित क्षेत्र को ही तबाह किया है.

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

इसे भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने छह लाख करोड़ के भ्रष्टाचार मामले में झारखंड को भेजा नोटिस

बेरोजगारी दर में भारी उछाल आया

2016 के बाद भारत में रोजगार वाले शीर्षक के इस रिपोर्ट के 6ठे प्वाइंट में नोटबंदी के बाद जाने वाली 50 लाख नौकरियों का जिक्र है. रिपोर्ट के अनुसार 2011 के बाद से कुल बेरोजगारी दर में भारी उछाल आया है. 2018 में जहां बेरोजगारी दर 6 फीसदी थी. यह 2000-2011 के मुकाबले दोगुनी है.रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि भारत में बेरोजगार ज्यादातर उच्च शिक्षित और युवा हैं. शहरी महिलाओं में कामगार जनसंख्या में 10 फीसदी ही ग्रेजुएट्स हैं, जबकि 34 फीसदी बेरोजगार हैं.

वहीं, शहरी पुरुषों में 13.5 फीसदी ग्रेजुएट्स हैं, मगर 60 फीसदी बेरोजगार हैं.  इतना ही नहीं, बेरोजगारों में 20 से 24 साल की संख्या सबसे अधिक है. सामान्य तौर पर पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा प्रभावित हुई हैं. पुरुषों के मुकाबले स्त्रियों में बेरोजगारी और श्रम भागीदारी दर बहुत ज्यादा है.

इसे भी पढ़ें पिछड़ा वर्ग का होने की वजह से कांग्रेस मुझे गालियां दे रही है, चोर कह रही है : मोदी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: