न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रहे मुंशी से मांगी 5 लाख की रंगदारी, एक आरोपी गिरफ्तार

58

Ranchi: राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी थाना क्षेत्र में एक बार फिर रंगदारी मांगने का मामला सामने आया है. हिंदपीढ़ी में कल्याण विभाग के द्वारा बनाए जा रहे आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रहे मुंशी से पांच लाख रुपए की रंगदारी की मांग की गई है. मिली जानकारी के अनुसार, आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रहे मुंशी से मोहम्मद शाहिद और मुस्ताक नाम के दो युवकों ने पांच लाख रूपए रंगदारी की मांग की है. जिसके बाद दोनों युवकों के खिलाफ हिंदपीढ़ी थाने में मामला दर्ज कराया गया. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए एक आरोपी युवक मुस्ताक को गिरफ्तार कर लिया है. दूसरे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है.

रंगदारी नहीं देने पर अंजाम भुगतने की दी धमकी

मिली जानकारी के अनुसार, आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रहे मुंशी से 5 लाख रूपए रंगदारी मांगते हुए धमकी भी दी. आरोपियों ने कहा कि अगर रंगदारी नहीं दोगे तो अंजाम भुगतने को तैयार रहना. जिसके बाद मुंशी ने पुलिस को इसकी जानकारी और थाना में शिकायत दर्ज करवायी.

कुछ महीने पहले जेल से छूटा है आरोपी

मिली जानकारी के अनुसार, रंगदारी मांगने का आरोपी मोहम्मद शाहिद कुछ महीने पहले ही जेल से छूटकर बाहर आया है. आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रहे मुंशी से दोनों आरोपी युवकों के द्वारा पिछले दो महीने से लगातार रंगदारी की मांग की जा रही थी. हिंदपीढ़ी थाना प्रभारी ने कहा कि फिलहाल एक आरोपी की गिरफ्तारी हुई है. उम्मीद है कि जल्द ही दूसरे आरोपी को भी पुलिस गिरफ्तार कर लेगी.

रांची में रंगदारी मांगने के कुछ मामले

20 नवंबर- सीसीएल के सीएमडी गोपाल सिंह और डायरेक्टर फाइनेंस डीके घोष से पांच लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई थी. ईमेल के जरिए भेजी गई धमकी में कहा गया है कि रंगदारी नहीं देने पर कुछ भी हो सकता है. जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया था.

22 सितंबर- कांके रोड स्थित हॉट लिप्स रेस्टूरेंट के संचालक रंजन कुमार से फोन पर 25 लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई थी.

20 मार्च- नगर विकास सह परिवहन मंत्री सीपी सिंह से फोन कर रंगदारी मांगी गयी. रंगदारी मांगनेवाले ने मंत्री को बैंक अकाउंट नंबर भी दिया, जिसमें पैसा भेजने को कहा गया था.

इसे भी पढ़ेंः खिलाड़ियों से खेल ! स्पोर्ट्स कोटा से 2 फीसदी जॉब देने की थी बात, 18 सालों में मिली सिर्फ 5 नौकरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: