NEWS

पलामू: छतरपुर में 5 स्वास्थ्य केन्द्र सील, अवैध रूप से हो रहा था संचालन, न्यायिक हिरासत में एक डॉक्टर 

विज्ञापन

Palamu. पलामू जिले के छत्तरपुर प्रखंड क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे स्वास्थ्य केन्द्रों के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गयी है. अब तक पांच केन्द्रों को सील किया जा चुका है, जबकि एक नर्सिंग होम के संचालक को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. इस कार्रवाई से झोलाछाप डॉक्टरों और अवैध रूप से अस्पताल और जांच घर चलाने वालों में हड़कंप मच गया है.

जांच में पाए गए थे अवैध

12 सितम्बर को पलामू के उपायुक्त शशि रंजन के निर्देश पर जिले के सिविल सर्जन डॉ जॉन एफ कनेडी ने छतरपुर में अवैध करार दिए जाने के बाद भी धड़ल्ले से चल रहे क्लिनिक, एक्सरे और पैथोलॉजी केन्द्रों की जांच की थी. इस दौरान चार अस्पताल और एक एक्सरे जांच केन्द्र को अवैध पाया गया था. मौके से 10 लोगों को हिरासत में लिया गया था. छानबीन के दौरान 9 लोगों को छोड़ दिया गया, जबकि जनता नर्सिंग होम के संचालक डॉ अनिल कुमार सिंह को न्यायिक हिरासत में भेजा गया. 

advt

सीएस ने किया था औचक निरीक्षण

सीएस की औचक छापामारी के बाद छत्तरपुर अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी डॉक्टर राजेश अग्रवाल और दंडाधिकारी सह अंचलाधिकारी राकेश कुमार तिवारी ने चार नर्सिंग होम और एक एक्सरे जांच घर को सील किया. साथ ही मामले में प्राथमिकी दर्ज करायी. छत्तरपुर के सरईडीह रोड में स्थित रानी अस्पताल के संचालक डॉ वरुण कुमार, छत्तरपुर मेन बाजार उमा सिंह के मकान में डॉ ए परवीन, इसी जगह जैनु डिजिटल एक्सरे के संचालक गोल्डेन, जनता नर्सिंग होम के संचालक डॉ अनिल कुमार सिंह, सड़मा स्थित लौंग लाइफ नर्सिंग होम के संचालक डॉ ताहिल हुसैन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है.

इसे भी पढ़ें- संसद की जांच में हनुमान बेनीवाल की रिपोर्ट पॉजिटिव, जयपुर में निगेटिव, बोले- किस रिपोर्ट को सही माना जाए?

 

adv

सिविल सर्जन डॉक्टर जॉन एफ केनेडी ने बताया कि पांच अवैध क्लिनिक व एक्सरे जांच कर कार्रवाई हुई है. अभी भी प्रखंड क्षेत्र में कई अवैध क्लिनिक व अल्ट्रासाउंड केन्द्र चल रहे हैं. अगर वे खुद से अपने फर्जी संस्थान बंद नहीं किए तो जल्द ही फिर से कार्रवाई की जाएगी.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button