National

14 राज्‍यों के 49 विधायक जीत कर लोकसभा पहुंचे, कराने होंगे उपचुनाव

NewDelhi : लोकसभा चुनाव में 14 राज्‍यों के 49 विधायक जीत कर लोकसभा पहुंचे हैं. 49 विधायकों, दो विधान परिषद सदस्‍य और चार राज्‍य सभा सांसदों ने जीत हासिल की है. इससे आने वाले कुछ महीनों में चुनाव आयोग को 14  राज्‍यों में उपचुनाव कराना पड़ सकता है. इस सूची में यूपी सबसे ऊपर है जहां से 11 विधायक सांसद बने हैं. बिहार में पांच विधायक और दो विधान परिषद सदस्‍य सांसद चुने गये हैं.

बता दें कि 41 विधानसभा सीटों और दो विधान परिषद सदस्‍य पदों के लिए अगले छह महीने के अंदर चुनाव होंगे क्‍योंकि नये चुने गये सांसदों को इस्‍तीफा देना होगा. इसमें ओडिशा की भी दो विधानसभा सीटें शामिल हैं जहां सीएम नवीन पटनायक को हिंजिली या बीजेपुर में से एक सीट को चुनना होगा.

इसे भी पढ़ें- दस सालों में 44 प्रतिशत बढ़ी करोड़पति व आपराधिक पृष्ठभूमि वाले सांसदों की संख्या

 महाराष्‍ट्र की छह, झारखंड की दो तथा हरियाणा की एक सीट पर उपचुनाव नहीं

हालांकि महाराष्‍ट्र की छह विधानसभा सीटों और झारखंड की दो तथा हरियाणा की एक सीट पर उपचुनाव नहीं होंगे क्‍योंकि वहां पर अगले छह महीने में चुनाव होना है. उधर, एसपी-बीएसपी गठबंधन को यूपी में आने वाले छह महीने में एक और टेस्‍ट से गुजरना होगा. राज्‍य में कुल 11 सीटों गोविंदनगर, टुंडला, लखनऊ कैंट, गंगोह, बल्‍हा, मानिकपुर, इगलास, जैदपुर, प्रतापगढ़, जलालपुर और रामपुर में उपचुनाव होंगे.

advt

बता दें कि तीन नये सांसद रीता बहुगुणा जोशी, सत्‍यदेव पचौरी और एसपी सिंह यूपी की वर्तमान योगी सरकार में मंत्री हैं. बिहार में भी पांच विधानसभा और दो विधान परिषद सीटों पर अगले छह महीने में चुनाव कराने पड़ेंगे.

ये पांच सीटें हैं-सिमरी बख्तियारपुर, दरौंधा, बेल्‍हर, नाथनगर और किशनगंज. नीतीश सरकार के तीन मंत्री राजीव रंजन सिंह, दिनेश चंद्र यादव (दोनों जेडीयू के) और पशुपति कुमार पारस (एलजेपी) लोकसभा चुनाव जीत गये हैं. अब उन्‍हें अपने मंत्री पद से इस्‍तीफा देना होगा.

इसे भी पढ़ें- बिहार में सबसे अधिक वोटरों ने दबाया नोटा, जानें कहां कितने लोगों ने चुना नोटा का विकल्प

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: