JharkhandLead NewsRanchi

46 के हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, प्रधानमंत्री, रघुवर समेत अन्य ने दी बधाई

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आज 46 वर्ष के हो गए. आज उनका जन्मदिन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जन्मदिन की बधाई दी है. पीएम मोदी ने ट्वीट कर जन्मदिवस की बधाई देते हुए उनके लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य की कामना की. वहीं, पीएम मोदी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जवाब में लिखा- धन्यवाद आदरणीय प्रधानमंत्री जी. पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, केंद्रीय राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी, छतीसगढ़, राजस्थान, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, तेलंगाना, बंगाल सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी हेमंत सोरेन को बधाई दी है. रांची के सांसद संजय सेठ ने भी मुख्यमंत्री को बधाई दी है.

इसे भी पढ़ें : पटना में कार चलाना है तो हेलमेट पहनना होगा, नहीं तो कटेगा चालान !

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का जन्म 10 अगस्त 1975 को हुआ था. वह इंजिनियर बनना चाहते थे. उनके शौक में फोटोग्राफी और पेंटिंग शामिल था. इंजीनियरिग की पढाई बीच में ही छोड़कर वह राजनीति में आये. राज्यसभा सांसद के रूप में उनका राजनीतिक सफ़र शुरू हुआ. इसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखे. जब वह राजनीति में आये थे उस समय राजनीतिक गलियारे में कई सवाल उठे थे. यह कहा जा रहा था कि जिस झामुमो को गुरूजी ने अपने खून पसीने से सींचा है उसे हेमंत सोरेन सम्हाल पाएंगे.

लेकिन हेमंत सोरेन ने इस चुनौती को अपने कन्धों पर लिया और यह साबित कर दिया कि सही मायने में वही गुरूजी की विरासत को आगे ले जा सकते हैं. वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव की कमान हेमंत ने अकेले अपने कंधे पर ली. एक तरफ भाजपा जैसी विश्व की सबसे बड़ी पार्टी और दूसरी तरफ हेमंत सोरेन. इस चुनाव में भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अमित शाह, योगी आदित्यनाथ, जेपी नड्डा, स्मृति इरानी जैसे दिग्गजों को चुनाव प्रचार में उतारा और दूसरी तरफ एक 44 साल का युवा इन दिग्गजों को अकेले चुनौती दे रहा था.

चुनाव परिणाम आया तो अकेले हेमंत सबपर भारी रहे. अपने बूते उन्होंने झामुमो को झारखंड की सबसे बड़ी पार्टी बनाया. हेमंत सोरेन तमाम राष्ट्रीय मसलों पर खुलकर अपनी राय रखते हैं. शासन चलाने के साथ-साथ वे झारखंड मुक्ति मोर्चा के शीर्ष रणनीतिकार भी हैं. रोजाना प्रमुख गतिविधियों की फीड बैक लेना और तत्काल उस पर सधी प्रतिक्रिया देना उनके रोजमर्रा के कामकाज में शुमार है.

इसे भी पढ़ें : रांची व लातेहार में अब तक स्ट्रीट लाइट के ऑनलाइन ऑन-ऑफ सिस्टम की शुरुआत नहीं

Related Articles

Back to top button