न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमेरिका में #GeneralMotors के 46,000 श्रमिक हड़ताल पर चले गये

वाल स्ट्रीट जर्नल ने इस घटनाक्रम को पिछले एक दशक से भी ज्यादा अवधि में जनरल मोटर्स में काम बंदी की पहली घटना करार दिया है.

44

Detroit : जनरल मोटर्स (General Motors) के खिलाफ युनाइटेड ऑटो वर्कर्स (यूएडब्ल्यू) श्रमिक संगठन ने सोमवार को देशव्यापी हड़ताल शुरू की है. खबरों के अनुसार समझौते की बात बेनतीजा रहने पर लगभग 46,000 श्रमिकों ने काम बंद कर दिया है. वाल स्ट्रीट जर्नल ने इस घटनाक्रम को पिछले एक दशक से भी ज्यादा अवधि में जनरल मोटर्स में काम बंदी की पहली घटना करार दिया है. हड़ताल श्रमिकों का विनिर्माता के साथ चार वर्ष का अनुबंध बिना किसी वैकल्पिक व्यवस्था के समाप्त होने के बाद शुरू हुई है.

यूएडब्ल्यू ने ट्वीट किया कि स्थानीय श्रमिक संगठनों के नेताओं ने डेट्रोएट में मुलाकात की और रविवार मध्यरात्रि से हड़ताल पर जाने का निर्णय किया. बैठक के बाद एक प्रेसवार्ता में संगठन के प्रमुख वार्ताकार टेरी डिटेस ने कहा, यह हमारा अंतिम प्रयास है. हम इस देश में लोगों के काम करने के बुनियादी हक के लिए खड़े हैं.

Trade Friends

इसे भी पढ़ेंः #EconomicSlowdown : खुदरा महंगाई बढ़ी, उद्योगों की रफ्तार में आयी गिरावट

जनरल मोटर्स में 2007 में 73 हजार वर्कर्स हड़ताल पर गये थे

Related Posts

#Paris: #FATF ने पाकिस्तान को ग्रे सूची में बरकरार रखा, चेतावनी भी दी

आतंकवाद को मुहैया कराये जाने वाले धन की निगरानी करने वाली अंतरराष्ट्रीय निगरानी संस्था ने शुक्रवार को पाकिस्तान को ग्रे सूची में कायम रखा.

WH MART 1

हड़ताल के शुरू होने से पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि जनरल मोटर्स और यूनाइटेड ऑटो वर्कर्स के बीच एक बार फिर विवाद शुरू हुआ है. दोनों को एक साथ आकर मामले को सुलझाने चाहिए. इस क्रम में जनरल मोटर्स ने हड़ताल को लेकर कहा, यह निराशाजनक है कि यूएडब्ल्यू लीडरशिप ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया है.

हमने कॉन्ट्रैक्ट नेगोशिएशंस में अच्छा ऑफर पेश किया था. विदेशी मीडिया के अनुसार पिछले 12 साल में ऑटो सेक्टर की सबसे बड़ी हड़ताल है. इससे पहले जनरल मोटर्स में इतनी बड़ी हड़ताल 2007 में हुई थी. उस वक्त 73 हजार वर्कर्स ने दो दिन के लिए काम पर जाने से आने से इनकार कर दिया था. इससे कंपनी को लगभग 300 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ था.

इसे भी पढ़ेंः #EconomicSlowDown खस्ता हाल ऑटो सेक्टर को राहत देने में सरकार पर पड़ेगा 30 हजार करोड़ का भार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like