न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हर माह 32 करोड़ नुकसान की भरपाई कर रहे 47 लाख बिजली उपभोक्ता, सीएम ने मानी व्यवस्था में खामी

राष्ट्रीय मानक से आठ फीसदी अधिक होता है झारखंड में बिजली का नुकसान, राष्ट्रीय मानक है 24 फीसदी और झारखंड में 32 फीसदी नुकसान

288

Ranchi : राज्य के 47 लाख बिजली उपभोक्ताओं को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है. बिजली कंपनी को नुकसान हो रहा है, उसकी भी भरपाई उपभोक्ता ही कर रहे हैं. गुरुवार को हुई राज्य विकास परिषद की बैठक में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने भी माना कि बिजली वितरण व्यवस्था में खामी है, जितना सुधार होना चाहिये था वह नहीं हो पाया है. उपभोक्ताओं को गुणवत्ता युक्त बिजली नहीं मिल पा रही है. राष्ट्रीय मानक से 8 फीसदी अधिक बिजली का नुकसान झारखंड में हो रहा है. राष्ट्रीय मानक 24 फीसदी है, जबकि झारखंड में लाइन लॉस 32 फीसदी है.

इसे भी पढ़ें –  NEWS WING IMPACT : आयुष्मान कार्डधारी से पैसे मांगने के मामले में रिम्स निदेशक बोले- हमसे गलती हुई, आयुष्मान भारत की सही से नहीं थी जानकारी

हर महीने 32 करोड़ का नुकसान की भरपाई भी कर रहे कंज्यूमर

लचर बिजली वितरण व्यवस्था के कारण हर महीने 32 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है. इसकी भरपाई भी उपभोक्ता ही कर रहे हैं. वहीं प्रदेश में लो और हाई वोल्टेज की समस्या के कारण हर साल घरेलू उपभोक्ताओं को 60 करोड़ रुपये का नुकसान होता है. अगर एक फीसदी नुकसान कम हो तो हर महीने चार करोड़ रुपये की बचत होगी. सबसे अधिक बिजली का नुकसान जम्मू-कश्मीर में होता है. बिजली नुकसान के मामले में झारखंड छठे पायदान पर है, इसकी भी भरपाई बिजली के उपभोक्ता ही कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – नावा पावर का 200 ट्रक कोयला बनारस भेज रही थी प्रणव नमन कंपनी, यूपी में पकड़े गये ट्रक

नियामक आयोग का निर्देश भी नहीं मानता वितरण निगम

झारखंड में राज्य विद्युत नियामक आयोग का भी निर्देश झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम नहीं मानता है. विद्युत नियामक आयोग ने लाइन लॉस 15 फीसदी तक लाने का निर्देश दिया है. इससे पहले 16 फीसदी तक लाने का निर्देश दिया था. प्रावधान के मुताबिक हर साल बिजली दर निर्धारण के समय आयोग बिजली नुकसान में कमी लाने का निर्देश देता है. आज तक वितरण निगम आयोग के निर्देश का पालन नहीं कर सका है.

इसे भी पढ़ें – प्रणव नमन कंपनी ने अच्छी क्वालिटी के कोयले में मिलाने के लिए कटकमसांडी रेलवे कोल साइडिंग में जमा कर रखा है हजारों टन चारकोल (देखें व पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट)

कैसे उपभोक्ताओं पर पड़ती है दोहरी मार

एक उपभोक्ता को सिंगल फेज मीटर लगाने के लिये में लगभग 1000-1200 रुपये खर्च आता है. वहीं औद्योगिक घरानों को बिजली लेने और मीटरिंग में लगभग एक लाख रुपये का खर्च आता है. वहीं घरेलू और औद्योगिक उपभोक्ताओं को तार के लिये भी पैसे देने पड़ते हैं.

इसे भी पढ़ें – खराब बिजली व्यवस्था के लिए लचर ट्रांसमिशन लाइन भी जिम्मेदार

इस तरह मिलता है कनेक्शन

घरेलू उपभोक्ता
आवेदन- 20 रुपये
सिंगल फेज मीटर व लेबर चार्ज-155 रुपये
सिक्यूरिटी- 600 से 650 रुपये

मीटर रेंट नहीं देने पर उपभोक्ता को खुद खरीदना होता है मीटर,
सिंग फेज मीटर की कीमत 800 से 1500 रुपये
थ्री फेज मीटर की कीमत 3500 से 6000 रुपये

इसे भी पढ़ें – बिजली कंपनी में ताबड़तोड़ तबादला, चीफ इंजीनियर सहित 33 इंजीनियर इधर से उधर

कॉमर्शियल उपभोक्ता
एलटी उपभोक्ता, आवेदन- 50 रुपये
एचटी उपभोक्ता, आवेदन- 100 रुपये
एचटी उपभोक्ता का प्रति माह किराया- 1200 रुपये

मीटरिंग यूनिट लगाने में लगभग एक लाख रुपये खर्च आता है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड का जितना विकास होना चाहिये, उतना नहीं हो पाया: मुख्यमंत्री

किस राज्य में कितना फीसदी होता है नुकसान

राज्य का नाम कितना फीसदी है लाइन लॉस
जम्मू कश्मीर 62
अरूणाचल प्रदेश 49
बिहार 44
मणिपुर 40
मध्यप्रदेश 35
झारखंड 32
चंढ़ीगढ़ 31
उत्तरप्रदेश 31
राजस्थान 27
मिजोरम 27
सिक्किम 26
पश्चिमबंगाल 25
असम 24
हरियाणा 24
उत्तराखंड 22
कर्नाटक 22
त्रिपुरा 22
तमिलनाडू 21
महाराष्ट्र 21
केरल 18
गुजरात 18
आंध्रप्रदेश 16
पांडिचेरी 12
हिमाचल प्रदेश 11

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: