Main SliderNational

जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर के भाई समेत 44 आतंकी हिरासत में

Islamabad: पुलवामा हमले के बाद भारत-पाक के बीच चल रहे तनाव के बीच पाकिस्तान ने बड़ा कदम उठाया है. पाकिस्तान ने भारत के डोजियर सौंपने के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अज़हर के भाई समेत 44 चरमपंथी नेताओं को हिरासत में लिया है. इसमें कई बड़े कमांडर भी शामिल हैं. पाकिस्तान के गृह मंत्री शहरियार अाफरीदी और गृह सचिव आजम सुलेमान खान ने मंगलवार को 44 लोगों को हिरासत में लिए जाने की जानकारी दी है.

इसे भी पढ़ें – पुलवामा के शहीदों को मदद देने की घोषणा कर भूल गयी झारखंड सरकार, सीएम और मंत्रियों ने नहीं दिया अबतक एक माह का वेतन, अफसर-कर्मचारियों का भी वेतन नहीं कटा

अजहर का भाई मुफ्ती रऊफ भी शामिल

गिरफ्तार किये गेय आतंकियों में मसूद अज़हर का भाई मुफ़्ती अब्दुर रऊफ़ भी शामिल है. मसूद अज़हर के अन्य रिश्तेदार हम्माद अज़हर को भी हिरासत में लिया गया है. गृह मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इन लोगों को जांच के सिलसिले में एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया है. पाकिस्तान स्थित चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ही भारत प्रशासित कश्मीर के पुलवामा में हुए चरमपंथी हमले की ज़िम्मेदारी ली थी.

advt

इसे भी पढ़ें – पाक का एक और पैंतराः भारत की पनडुब्बी पर लगाया घुसपैठ का आरोप

भारत के डोजियर में कई नाम थे शामिल

सीआरपीएफ़ के काफ़िले को निशाना बना कर किये गये इस आत्मघाती हमले में 40 से अधिक जवान मारे गए थे. भारत ने पाकिस्तान को दिए डोज़ियर में कई चरमपंथियों के नाम दिए थे. जो लोग हिरासत में लिए गए हैं उनमें से कई के नाम भारत की ओर से दिए गए ब्यौरे में शामिल थे. पाकिस्तान के गृह मंत्रालय में सचिव आज़म सुलेमान से इस विषय में कहा कि हां, इनमें से कई लोगों के नाम भारत की तरफ़ से दिए ब्यौरे में शामिल हैं. अगर उनके ख़िलाफ़ कोई सबूत है तो आगे की कार्रवाई की जाएगी.

किसी के दबाव में कार्रवाई नहींः शहरियार

गृह मंत्री शहरियार अाफरीदी ने कहा कि यह कार्रवाई किसी दबाव में नहीं की गई है. मंत्री ने कहा कि सभी प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब पाकिस्तान ने सोमवार को व्यक्तियों और संगठनों के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों को लागू करने की सुचारू प्रक्रिया हेतु एक कानून लागू किया था. इस आदेश की व्याख्या करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि इसका मतलब यह हुआ कि सरकार ने देश में सक्रिय सभी प्रतिबंधित संगठनों की संपत्तियों को अपने नियंत्रण में ले लिया है.

इसे भी पढ़ें – समुद्र के रास्ते हमला कर सकते हैं आतंकी, दिया जा रहा प्रशिक्षण : लांबा

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button