NEWS

राज्य के 117 मदरसों के 425 शिक्षकों-कर्मियों को मिलेगा अनुदान, 58 करोड़ रुपये जारी

Ranchi :  38 महीने से अनुदान की राह देख रहे मदरसा कर्मियों को अब अनुदान मिल जायेगा. इस अनुदान के भुगतान को लेकर राशि जारी कर दी गयी है.

राज्य में संचालित हो रहे 117 मदरसों के 425 शिक्षक और कर्मियों को कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद भी अनुदान का भुगतान नहीं हो पा रहा था. इन मदरसों को अनुदान मिल सके इसके लिए मुख्यमंत्री हेमुत सोरेन के निर्देश पर तीन सदस्यीय कमिटी गठित की गयी थी.

इस कमिटी की ओर से सहमति मिलने के बाद मदरसों को अनुदान के भुगतान के लिए 58 करोड़ रुपये जारी कर दिये गये हैं. इनका भुगतान जल्द ही कर दिया जायेगा.

advt

इसे भी पढ़ें – एक ओर राज्य में बंद हो रही टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज दूसरी ओर 12 नई कंपनियां आने की तैयारी में

117 मदरसों को 38 माह और 66 को पांच माह से नहीं मिला था अनुदान

राज्य की 117 मदरसों के 425 शिक्षकों और शिक्षकेतर कर्मियों को 38 महीने के बाद अब अनुदान मिल सकेगा. मदरसों को अनुदान देने के लिए जुलाई में कैबिनेट की मंजूरी मिल गयी थी.

इन मदरसों को अनुदान नहीं मिलने की वजह को लेकर संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम, शिक्षामंत्री जगरनाथ महतो और विधायक सुदीप्त कुमार सोनू की तीन सदस्यीय कमिटी बनायी गयी थी. इस कमिटी की सहमति के बाद अनुदान की राशि जारी की गयी है.

कमिटी की ओर से मंजूरी मिलने के बाद राज्य के कुल 183 मदरसों के 700 शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मियों को अनुदान का भुगतान हो सकेगा. इसमें 117  मदरसों के 425 शिक्षक शिक्षकेतर कर्मियों को 38 महीने से अनुदान नहीं मिला है, जबकि 66 मदरसों को पांच महीना से अनुदान नहीं मिल रहा है.

adv

इसे भी पढ़ें – रघुवर सरकार द्वारा बनायी गयी स्थानीय नीति मूल निवासियों के हित में नहीं: विधानसभा अध्यक्ष

जांच की वजह से रुका था अनुदान

रघुवर दास सरकार में मदरसों की जांच कराने का आदेश आया था. इसी जांच प्रक्रिया की वजह से मदरसों का अनुदान रोका गया था. पिछली सरकार में मदरसों की जांच हुई, रिपोर्ट भी आयी लेकिन वह आधी अधूरी रही.

इसमें कई मदरसे संचालन का क्राइटेरिया पूरा नहीं कर रहे थे. बावजूद इसके हेमंत सोरेन की सरकार ने सभी मदरसों के बकाया अनुदान की राशि जारी करने का निर्देश दिया. साथ ही एक समय सीमा तय की जायेगी, जिसमें सभी मदरसों को अपनी क्राइटेरिया पूरी करनी होगी. इसके बाद क्राइटेरिया पूरी होने पर ही अनुदान का भुगतान भविष्य में हो सकेगा.

इसे भी पढ़ें –गिरिडीह: निबंधन महानिरीक्षक ने जमीन के अवैध कारोबार को लेकर रजिस्ट्रार को लिखा पत्र

advt
Advertisement

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button