न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारतीय साहित्यकार संगठन के बैनर तले आये 400 लेखक, मोदी का समर्थन किया

सिद्ध साहित्यकार नरेंद्र कोहली चित्रा मुद्गल, सूर्यकांत बाली समेत 400 से अधिक साहित्यकारों ने देशवासियों से प्रधानमंत्री मोदी के पक्ष में वोट करने का आग्रह किया

79

NewDelhi : पिछले दिनों लेखकों और कलाकारों के एक समूह द्वारा नरेंद्र मोदी और भाजपा  के खिलाफ वोट डालने की अपील के बाद साहित्यकारों के एक अन्य समूह ने  शनिवार को देशवासियों से मोदी के पक्ष में मतदान करने की अपील की है.  प्रसिद्ध साहित्यकार नरेंद्र कोहली चित्रा मुद्गल, सूर्यकांत बाली समेत देशभर के 400 से अधिक साहित्यकारों ने देशवासियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में वोट करने का आग्रह किया है. बता दें कि  भारतीय साहित्कार संगठन के बैनर तले एकजुट हुए साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों ने अपनी अपील में कहा है कि जनता अपना वोट देश की अखंडता, सुरक्षा, स्वाभिमान और विकास को बनाये रखने के लिए मोदी को वोट दें. शनिवार को नयी दिल्ली के कॉन्‍़स्टीट्यूशन क्‍़लब में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में भारतीय साहित्कार संगठन के अध्यक्ष दयाप्रकाश सिन्‍़हा  एवं महामंत्री प्रो कुमुद शर्मा ने यह जानकारी दी.

साहित्यकारों ने अपनी अपील में कहा, भारतीय लोकतंत्र में संविधान का महत्व सर्वोपरि है.  अतः हम साहित्यकार देशवासियों से अपील करते हैं कि आप अपना बहुमूल्य वोट देश की अखंडता, सुरक्षा, स्वाभिमान, संप्रभुता, सांप्रदायिक सद्भाव, सर्वांगीण विकास आदि को बनाये रखने के लिए दें.  अपील में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया में देश की प्रतिष्ठा बढ़ाने वाला, राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति प्रतिबद्ध और अंतिम जन तक विकास की नयी धारा प्रवाहित करने वाला नेता करार दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – सीजेआइ पर यौन उत्पीड़न का आरोप, हुई विशेष सुनवाई, बोले गोगोई- कुछ ताकतें सीजेआइ के ऑफिस को निष्क्रिय करना चाहती हैं

लेखक स्वतंत्र होता है, लेकिन हमारे विरोधी इकट्ठे हो रहे हैं

इस क्रम में  डॉ कोहली ने कहा कि लेखक स्वतंत्र होता है. लेकिन हमारे विरोधी इकट्ठे हो रहे हैं. वे कहते हैं कि यहां  अभि‍व्‍़यकि़त की आजादी नहीं है.  लेकिन सच यह है कि जितनी स्वतंत्रता यहां है, उतनी कहीं नहीं है.  उन्होंने साहित्यकारों का आह्वान करते हुए कहा कि आप किसको चुन रहे हैं, इसका ख्‍याल रखना होगा.आप देश की रक्षा के लिए नहीं लड़ते हैं तो अधर्म कर रहे हैं.  हमें  राष्‍़ट्रीयता का पक्ष लेकर  सही आदमी को चुनना होगा.

इस क्रम में डॉ  सूर्यकांत बाली ने  महिलाओं के  सम्‍़मान का मुद्दा उठाते हुए पिछले तीन- चार दिनों में घटी तीन घटनाओं पर क्षोभ प्रकट किया. कहा कि आजमगढ़ में एक नेता द्वारा जयाप्रदा का अपमान किया गया, प्रियंका चतुर्वेदी का अपमान हुआ और प्रज्ञा ठाकुर के जो बयान सामने आये  हैं वे रोंगटे खड़े करनेवाले हैं.

इसे भी पढ़ें – पीएम मोदी ने कहा, हिंदुओं के साथ आतंकी शब्द चिपकाने के लिए कांग्रेस ने की साजिश

गिरीश कर्नाड, रोमिला थापर, अमिताव घोष ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाये थे

जान लें कि इससे  पूर्व  इंडियन राइटर्स फोरम द्वारा जारी अपील में अलग-अलग भाषाओं के 200 से अधिक लेखकों ने  नफरत की राजनीति के खिलाफ वोट करने की अपील की थी.  गिरीश कर्नाड, रोमिला थापर, अमिताव घोष, नयनतारा सहगल और अरुंधती रॉय सरीखे लेखकों ने अपने बयान में मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाये थे. बयान के अनुसार ‘लेखकों, कलाकारों, फिल्मकारों, संगीतकारों और अन्य सांस्कृतिक लोगों को डराया-धमकाया गया और उनका मुंह बंद कराने की कोशिश की गयी.

लेखकों ने कहा कि सत्ताधारियों से सवाल करने वाले किसी भी शख्स को प्रताड़ित करने या गलत एवं हास्यास्पद आरोपों में गिरफ्तार किये जाने का खतरा है.  हम सब चाहते हैं कि इसमें बदलाव आये; पहला कदम यह होगा, जो हम जल्द ही उठा सकते हैं कि नफरत की राजनीति को उखाड़ फेंके और इसलिए हम सभी नागरिकों से अपील करते हैं कि वे एक विविधतापूर्ण एवं समान भारत के लिए मतदान करें.

इसे भी पढ़ें –  मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद जनता के विश्वास को धोखा दिया : प्रियंका गांधी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: