न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2017-18 में भाजपा को मिले 400 करोड़, कांग्रेस 26 करोड़ रुपये ही जुटा पायी

इकनॉमिक टाइम्स के अनुसार फुल ऑडिटेड रिपोर्ट आने पर भाजपा  के लिए यह रकम 1,000 करोड़ रुपये के करीब पहुंच जायेगी.

31

NewDelhi :  2017-18 में भाजपा ने 400 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटाई. इस मामले में कांग्रेस काफी पीछे रही. पिछले वित्त वर्ष में कांग्रेस पार्टी को 26 करोड़ रुपये ही मिले. चुनाव आयोग को सौंपी गयी अपनी हालिया कंट्रीब्यूशन रिपोर्ट में दोनों दलों ने यह जानकारी दी है.  तुलना करें तो विपक्षी दल कांग्रेस से भाजपा को मिलने वाली राशि लगभग 15 गुना ज्यादा है.  इकनॉमिक टाइम्स के राजनीतिक दलों के कंट्रीब्यूशन रिपोर्ट्स की समीक्षा से यह बात सामने आयी है.  हालांकि दोनों राजनीतिक दलों के ऐनुअल ऑडिट अकाउंट्स में इस राशि में बढ़ोतरी हो सकती है.  इकनॉमिक टाइम्स के अनुसार फुल ऑडिटेड रिपोर्ट आने पर भाजपा  के लिए यह रकम 1,000 करोड़ रुपये के करीब पहुंच जायेगी.  बता दें कि भाजपा और कांग्रेस दोनों ने अभी तक 2017-18 के ऐनुअल ऑडिटेड इनकम टैक्स रिटर्न और बैलेंस शीट फाइल नहीं की है.

राजनीतिक दलों ने अभी तक इलेक्टोरल बेस्ड फंडिंग की भी जानकारी नहीं दी है.  कांग्रेस और भाजपा के ऐनुअल ऑडिटेड अकाउंट्स में इसकी जानकारी भी दी जा सकती है.  माना जा रहा है कि इस रास्ते से भाजपा कहीं ज्यादा फंड जुटाएगी.  उसे प्रूडेंट इलेक्ट्रोरल ट्रस्ट से 144 करोड़ से अधिक रकम मिली है, जिसने 2017-18 में लगभग 169 करोड़ रुपये जुटाये थे.

आदित्य बिड़ला ट्रस्ट ने भाजपा को 12 करोड़ दिये

खबरों के आदित्य बिड़ला जनरल इलेक्ट्रोरल ट्रस्ट ने भाजपा को 12 करोड़ से ज्यादा रुपये दिये हैं. जबकि   कांग्रेस को एक करोड़ दिये. मुरुगप्पा ग्रुप के ट्रांयफ इलेक्टोरल ट्रस्ट द्वारा भाजपा और कांग्रेस को एक-एक करोड़ रुपये दिये जाने की खबर मिली है.  जानकरी के अनुसार इलेक्टोरल ट्रस्ट के अलावा कैडिला हेल्थकेयर (13 करोड़ से अधिक), माइक्रो लैब्स प्राइवेट लिमिटेड और यूएसवी प्राइवेट लिमिटेड (9-9 करोड़), सिप्ला (9 करोड़) और एलेंबिक फार्मास्युटिकल्स और महावीर मेडिकेट (6 करोड़) भाजपा के बड़े कंट्रीब्यूटर्स में शामिल हैं.  इस क्रम में लोढ़ा (6.5 करोड़), जे कुमार इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट्स (5 करोड़) और रेयर एंटरप्राइजेज (9 करोड़) ने भी भाजपा की फंडिंग की है. 2014 में जब से भाजपा सत्ता में आयी है, तब से पार्टी की योगदान राशि 2013-14 के 673.81 करोड़ से 53प्रतिशत बढ़कर 2016-2017 में 1,034.27 करोड़ रुपये हो गयी.  इस अवधि में कांग्रेस की कमाई 598.06 करोड़ से 62प्रतिशत गिरकर 225.36 करोड़ रह गयी.

इसे भी पढ़ें : सोहराबुद्दीन हत्याकांड अमित शाह, डीजी वंजारा, पांडियन की साजिश : जांच अधिकारी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: