BiharLead News

बिहार में 40 फीसदी मेडिकल छात्र हुए फेल, स्टूडेंट्स का फूटा गुस्सा

Patna : बिहार में बड़े पैमाने पर मेडिकल (MBBS) के छात्र फेल हो गये हैं. जिसके बाद उनका गुस्सा सातवें आसमान पर है. जानकारी के मुताबिक 40% मेडिकल छात्र फेल हुए हैं जिसका कारण कोरोना बताया जा रहा है. सबसे बड़ी बात यह है कि जो छात्र मेडिकल में टॉपर आने का कयास लगा रहे थे वो भी फेल हो गये. 6 महीने के बाद परिणाम घोषित होने के बाद 2019 बैच के MBBS स्टूडेंट्स गलत मूल्यांकन का आरोप लगा रहे हैं. उनका कहना है कि कोरोना काल में यह बड़ी नाइंसाफी छात्रों पर की गयी है.

फेल हुए स्टूडेंट्स का आरोप है कि आंसर शीट मूल्यांकन में गड़बड़ी के कारण मेरिट रिस्ट में फर्स्ट टॉपर और सेकेंड टॉपर में बड़ा गैप है. फर्स्ट टॉपर का अंक 675 है तो सेकेंड टॉपर का अंक 620 है.

इसे भी पढ़ें :बिहारः BJP प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल स्टीवन जॉनसन सिंड्रोम के कारण पटना एम्स में भर्ती

ऐसे गैस से साफ हो रहा है कि मूल्यांकन पूरा ध्यान लगा कर नहीं किया गया है. छात्रों ने दोबारा उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन कराये जाने की मांग की है लेकिन इस पर अभी तक सहमति नहीं बनी है.

छात्रों ने बताया कि MBBS का सिलेबस काफी कठिन होता है और कोरोना काल में खुद से ऑनलाइन पढ़ाई कर एग्जाम देने वाले स्टूडेंट्स का मूल्यांकन संतोषजनक नहीं होना काफी दुखद है.

इसे भी पढ़ें :400 प्लस टू स्कूलों में कॉमर्स, बायोलॉजी और संस्कृत के शिक्षक बहाल हो गये, स्टूडेंट की संख्या जीरो

Related Articles

Back to top button