न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कश्मीर से 4 पुलिसकर्मी लापता, आतंकियों पर अपहरण का शक

हिजबुल मुजाहिद्दीन ने दी थी धमकी

eidbanner
149

Shrinagar: जम्मू-कश्मीर के शोपियां में चार जवानों के लापता होने की खबर है. मीडिया में आयी जानकारी के मुताबिक, गुरुवार की रात दक्षिण कश्मीर से तीन स्पेशल पुलिस अफसर (SPOs) और एक पुलिस के जवान लापता हैं. सुरक्षाबलों को शक है कि आतंकियों ने उन चारों का अपहरण कर लिया है. चाप जवानों के लापता होने की सूचना मिलते ही इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. पूरे क्षेत्र को घेर लिया गया है और कई टीमों में टीम लगा दी गई है.

इसे भी पढ़ेंःमिनिस्टर साहब स्टिंग देखिये ! ओरिजिनल सर्टिफिकेट के लिए वसूले जा रहे हैं 5000 रुपये

हिजबुल आतंकी ने दी थी धमकी

जवानों के इस तरह से गायब होने पर, आतंकियों पर किडनैपिंग का शक इसलिए भी गहरा रहा है, क्योंकि हिजबुल के आतंकी रियाज़ नाइकू ने पुलिसकर्मियों को धमकी दी है. एक ऑडियो क्लिप सामने आया है जिसमें नाइकू कह रहा है कि सभी पुलिसकर्मियों को चार दिन में अपनी नौकरी छोड़ दें. साथ ही उसने कहा था कि नए कश्मीरी लड़के पुलिस ज्वाइन ना करें.

पुलिस के परिजनों को भी किया था किडनैंप

Related Posts

भारत से मिलकर काम करना चाहता है पाकिस्तान , इमरान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात

दक्षिण एशिया में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए अपनी इच्छा दोहराते हुए इमरान ने कहा कि वे इन उद्देश्यों को आगे ले जाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के साथ मिलकर काम करने के प्रति आशान्वित हैं.

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों पहले भी कई बार आतंकियों ने पुलिसकर्मियों को किडनैप कर उनकी निर्मम तरीके से हत्या कर दी थी. जिसके बाद घाटी में काफी बवाल है. वही पिछले महीने आतंकियों ने अपनी दुस्साहस का परिचय देते हुए पुलिसकर्मियों के 10 परिजनों को किडनैप कर लिया गया था, हालांकि उन्हें बाद में छोड़ दिया था.

इसे भी पढ़ें- 6302 करोड़ हुए खर्च लेकिन खेतों में नहीं पहुंचा पानी, 88 फीसदी किसान को सिंचाई सुविधा नहीं

उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव होने हैं. और आतंकी उसमें बाधा डालने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं. आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन ने पंचायत चुनाव को लेकर प्रत्याशियों को धमकी दी है. हिजबुल के चीफ ऑपरेशन कमांडर रियाज अहमद नाईकू ने कहा था कि लोग पंचायत चुनाव से दूर रहें नहीं तो फिर नतीजा भुगतने को तैयार रहें.

इसे भी पढ़ें- तीन महीने बाद अयोग्‍य हो जायेंगे 70,175 सरकारी शिक्षक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: