JharkhandLead NewsRanchi

बिना स्वीकृति लिए ही 4 करोड़ 35 लाख का निकाला टेंडर, मेयर ने नगर आयुक्त से मांगा जवाब

Ranchi: मेयर डॉ आशा लकड़ा ने कहा कि रांची नगर निगम के अधिकारी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं. नियमानुसार रांची नगर निगम क्षेत्र में किसी प्रकार के कार्य के लिए स्थाई समिति व निगम परिषद से स्वीकृति प्राप्त करना अनिवार्य है.

इसके बावजूद 28 अप्रैल को मुख्य अभियंता ने हेहल पोस्ट आफिस एनएच-75, सिटी ट्रस्ट हॉस्पिटल एनएच-23 से न्यू मार्केट चौक (वाया पिस्का मोड व देवी मंडप रोड) तक मुख्य सड़क के दोनों ओर पेवर ब्लॉक लगाने से संबंधित कार्य के लिए टेंडर निकाला गया है, जिसकी लागत 4,35,41,254 रुपये है. नगर आयुक्त ने इस कार्य के लिए न तो स्थाई समिति से स्वीकृति ली और न ही निगम परिषद से.

इसे भी पढ़ें :कोरोना इफेक्ट : नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने स्थगित की JEE Main की परीक्षा

2 बिंदुओं पर 3 दिनों में जवाब मांगा

उन्होंने कहा कि एनएच-75 व 23 स्थित मुख्य सड़क के दोनों ओर पेवर ब्लॉक लगाने का कार्य रांची नगर निगम कार्य क्षेत्र में नहीं आता है.

नगर आयुक्त को यह जानकारी होनी चाहिए कि राष्ट्रीय उच्च पथ से संबंधित कार्य रांची नगर निगम के माध्यम से नहीं कराया जा सकता. ऐसे में उन्होंने नगर आयुक्त से 2 बिंदुओं पर 3 दिनों के अंदर जवाब मांगा है.

पेवर ब्लॉक से सड़क का निर्माण

मेयर ने कहा कि 19 मार्च को स्थाई समिति की बैठक में निर्णय लिया गया था कि 15वें वित्त आयोग के आवंटित फंड 20 करोड़ की राशि से (पथ निर्माण विभाग की सड़कों को छोड़कर) रांची नगर निगम के 53 वार्डों के गली-मोहल्लों में आवश्यकतानुसार पेवर ब्लॉक से सड़क का निर्माण कराया जाएगा.

इसे भी पढ़ें :कोरोना संकट: विभागों को CM का निर्देश, कोई भी नीति या योजना बनाते समय दूरगामी परिणाम का रखें ध्यान

मेयर ने इन बिंदुओं पर मांगे जवाब

  • राष्ट्रीय उच्च पथ से संबंधित सड़क व नाली निर्माण या पेवर ब्लॉक लगाने का कार्य रांची नगर निगम के कार्य क्षेत्र में नहीं है. किसके आदेश से 28 अप्रैल को एनएच-27 व 23 पर सड़क के दोनों ओर पेवर ब्लॉक लगाने से संबंधित निविदा निकाली गयी.
  • रांची नगर निगम क्षेत्र में किसी भी योजना को धरातल पर उतारने के लिए स्थायी समिति व रांची नगर निगम परिषद् से स्वीकृति प्राप्त करना अनिवार्य है. इसके बाद ही टेंडर या आगे की कार्रवाई की जा सकती है. आपने किस आधार पर इस कार्य योजना को तकनीकी व प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान किया. इस कार्य योजना पर किस मद से राशि खर्च की जानी है.

इसे भी पढ़ें :भारत में मिला कोरोना का खतरनाक नया वेरिएंट N-440K , 10 गुणा अधिक संक्रमण फैलने की है क्षमता

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: