न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

3978 फुटपाथ दुकानदारों को नहीं मिली जमीन, एनजीओ सम्मान फाउंडेशन पर उठ रहे सवाल

136

Dhanbad: 3978 फुटपाथ दुकानदारों को तीन साल से वेंडिंग जोन के लिए जमीन नहीं मिली है. वहीं दूसरी ओर उन्हें फुटपाथ से भगाया जा रहा है. सरकार ने वेंडरों के लिए जो कानून बनाया है उसके तहत फुटपाथ दुकानदारों को एक जगह से हटाते ही दूसरी जगह बसा देना है. जबकि ऐसा हो नहीं रहा है. यह आरोप वेंडिंग कमेटी के सदस्य श्यामल मजूमदार ने लगाया है. उन्होंने कहा कि फुटपाथ दुकानदारों के कल्याण के नाम पर बीच-बीच में एनजीओ सम्मान फाउंडेशन कुछ कार्यक्रम करता है. एनजीओ का नगर विकास विभाग से टाईअप है. इस एनजीओ का फुटपाथ दुकानदारों के कल्याण से जुड़ा एक भी काम कोई नहीं बता सकता. सिर्फ दुकानदारों का आइ कार्ड बना है. क्या इसे ही फुटपाथ दुकानदारों का कल्याण कहेंगे?

इसे भी पढ़ेंःबूढ़े कंधों पर जंगल की सुरक्षा ! सभी रेंजर 50 साल पार, गुजर गये 29 साल- नहीं हुई बहाली

वेंडिंग जोन पर सिर्फ आश्वासन मिल रहा है

फुटपाथ दुकानदारों के लिए वेंडिंग जोन बनाने की बात बीते तीन सालों से की जा रही है. हर मीटिंग में एक नयी जगह वेंडिंग जोन बनाने की बात होती है. संबंधित विभाग से एनओसी लेने की बात होती है पर नतीजा कुछ नहीं निकलता.

भूखे रहने की नौबत आ रही है

सड़क के किनारे छोटी सी जगह पर ठेला लगाकर अपने परिवार का भरण पोषण करने वाले फुटपाथ दुकानदारों पर आये दिन प्रशासन का डंडा चलने से उनके सामने अब भूखे रहने की नौबत आ गयी है. जब प्रशासन अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाता है तब फुटपाथ दुकानदारों का सामान क्षतिग्रस्‍त कर दिया जाता है. ऐसे में उनकी कमर टूट सी जाती है. दुकानों में रखे सामान की रिपेरिंग व खरीदारी करने में पसीने छूट जाते हैं. ऊपर से घर की लोगों की जिम्मेवारी उसी पर रहती है. इसे देखते हुए टाउन वेंडिंग कमेटी बनायी गयी. लेकिन, अब तक कुछ हासिल नहीं हुआ है. सिर्फ खानापूर्ति के लिए सर्वे कर लोगों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई : एन इनसाइड स्टोरी

तीन सालों में अब तक जगह का भी चयन नहीं

फुटपाथ दुकानदार स्थाई दुकान की मांग को लेकर सालों से आंदोलन कर रहे हैं. लेकिन, अबतक लोगों को कुछ हासिल नहीं हो पाया है और नगर निगम भी दुकानदारों को बरगलाने का कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. 3 सालों से अब तक सम्मान फाउंडेशन एजेंसी ने दुकानदारों का सर्वे किया. इसमें पाया कि 3,978 ऐसी दुकान है जिन्हें जमीन देना अतिआवश्यक है. एजेंसी ने पूरे निगम क्षेत्र के 55 वार्ड में जाकर सर्वे किया. फिर भी जगह का अभी तक चयन नहीं हो पाया है. कुछ जगह चिन्हित भी किए गये. लेकिन विभिन्न विभागों से एनओसी नहीं मिली, इस कारण फुटपाथ दुकानदारों को दुकानें नहीं मिल सकी.

इसे भी पढ़ेंःआजसू सुप्रीमो सुदेश महतो के करीबी रहे दीपक वर्मा पर विभागीय कार्रवाई शुरू

टाउन वेंडिंग कमेटी के गठन होने से हर्ष

palamu_12

फुटपाथ दुकानदारों के कल्याण के लिए संसद में कानून बनने के बाद को नगर विकास विभाग ने नगर निगम को टाउन वेंडिंग कमेटी का गठन करने का आदेश दिया गया था. इसके 18 सदस्य हैं. इसमें निगम के 11 सदस्य  4  बुद्धिजीवी और तीन दुकानदार संघ के प्रतिनिधि शामिल किये गये हैं. कमेटी तो बन गयी. लेकिन, जिस उद्देश्य से बनाया गया है वह कार्य आज भी अधूरा ही है.

क्या कहते हैं सम्मान फाउंडेशन के प्रोग्रामिंग ऑफिसर

सम्मान फाउंडेशन के प्रोग्रामिंग ऑफिसर केशव झा का कहना है कि फुटपाथ दुकानदारों को स्थाई रूप से दुकान देने के लिए 55 वार्ड का सर्वे कर लिया गया है. पांच जगहों का चयन किया गया है. लेकिन, किसी जगह जिला परिषद की जमीन, रेलवे और बीसीसीएल की जमीन रहने के कारण  एनओसी नहीं मिली है. इसलिए कुछ मामला फंसा हुआ है.

क्या कहते हैं नगर आयुक्त

नगर आयुक्त चंद्र मोहन कश्यप ने कहा कि सम्मान फाउंडेशन ने निगम क्षेत्र में फुटपाथ दुकानदारों के लिए स्थलों का चयन कर लिया गया है. बहुत जल्द लोगों को दुकान मिल जायेगी. कहीं भी अब एनओसी का लफड़ा नहीं है.

क्या कहते हैं फुटपाथ दुकानदार संघ के अध्यक्ष

फुटपाथ दुकानदार संघ के अध्यक्ष श्यामल मजूमदार ने कहा कि निगम एवं सम्मान फाउंडेशन ने अब तक  टाउन वेंडिंग कमेटी का गठन भी सही रूप से नहीं किया है और न ही फुटपाथ दुकानदारों को अब तक स्थाई दुकान मिला है. नगर निगम सिर्फ हवा हवाई बात कहकर लोगों को बहला रहा है.

किया गया प्रशिक्षण कार्यक्रम

फुटपाथ दुकानदारों के लिए नगर निगम के बारामूड़ी स्थित विवाह भवन में रविवार और सोमवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम किया गया. कार्यक्रम में करीब एक सौ से अधिक फुटपाथ दुकानदारों ने भाग लिया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: