Corona_UpdatesJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

मिसमैनेजमेंट से झारखंड में बर्बाद हुआ वैक्सीन का 37 फीसदी टीका, भाजपा ने उठाये सवाल

Ranchi: स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार वैक्सीनेशन कोरोना महामारी से रोकथाम में एक प्रभावी कदम है. पर कई राज्यों में वैक्सीन के टीके की बर्बादी देखने को मिल ही है. यह चिंताजनक है. झाऱखंड उन राज्यों में से है जहां टीके की बर्बादी बड़े पैमाने पर हो रही.

यहां 37.3 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में 30.2 प्रतिशत, तमिलनाडु में 15.5, जम्मू कश्मीर में 10.8 और मध्य प्रदेश में 10 फीसदी से अधिक टीके बर्बाद हो गये. राष्ट्रीय औसत 6.3 फीसदी से ये काफी ज्यादा है.

advt

अब प्रदेश भाजपा ने इसे लेकर झारखंड सरकार से सवाल पूछा है. सांसद दीपक प्रकाश, पूर्व सीएम बाबूलाल सहित अन्य नेताओं ने इस पर गहरी चिंता जाहिर की है.

इसे भी पढ़ें:कोविड वैक्सीन की बर्बादी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और झारखंड सरकार के बीच डाटा वार

सरकारी लापरवाही के कारण दुर्गतिः

झारखंड में कोविड वैक्सीन की सर्वाधिक बर्बादी पर दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है. बुधवार को उन्होंने वीडियो जारी करते हुए पूछा कि केंद्र द्वारा दिए जा रहे जीवन रक्षक कोरोना वैक्सीन की बर्बादी के मामले में झारखंड पूरे देश में पहले स्थान पर है.

बात बात पर केंद्र पर हेमंत सरकार केंद्र पर दोषारोपण की राजनीति करती है. सीएम जनता को बतायें कि मिसमैनेजमेंट के कारण 37.3% वैक्सीन की बर्बादी का जिम्मेदार कौन है?

बाबूलाल मरांडी ने भी राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा कियाः

बाबूलाल मरांडी ने भी राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया है. ट्विटर पर कहा है कि कोरोना से मौत और वैक्सीन की बर्बादी के मामले में झारखंड को देश में कई गुणा आगे पंहुचा दिया गया है.

इसके लिये हमारी लचर स्वास्थ्य व्यवस्था एवं कुप्रबंधन ज़िम्मेवार है. इसे सुधारना जरूरी है. ऐसा नहीं होने पर लोग ज़्यादा मरेंगे. साथ ही वैक्सीन की बर्बादी का भी रिकॉर्ड क़ायम रहेगा.

इसे भी पढ़ें:चंदवा खेल स्टेडियम में लगनेवाले मार्केट में हुई कोरोना जांच, मिले 11 पॉजिटिव

झारखंड में क्या है स्थितिः

स्वास्थ्य विभाग के राज्य नोडल पदाधिकारी आइसी सिद्धार्थ त्रिपाठी के अनुसार सभी जिलों के डीसी को कहा गया है कि वे 45 प्लस के लोगों के टीकाकरण का काम तेज करें. अभी मात्र 23 लाख लोगों को ही टीका लगाया जा सका है.

टारगेट 83 लाख का है. 45 प्लस के लिये इस समय 473390 डोज उपलब्ध हैं. 31 मई तक पांच लाख अतिरिक्त डोज मिलेंगे. ऐसे में 45 प्लस का टीकाकरण तेज करना जरूरी है. 18 प्लस के लिये 1.76 लाख डोज उपलब्ध हैं. अगले महीने 6 लाख डोज राज्य सरकार को मिलेंगे.

इसे भी पढ़ें:पोस्ट कोविड दौर में दुनिया को बेहतर बनाने के लिए आगे आयें कंपनियां: प्रो. कोटलर

गुमराह किया जा रहा देश कोः बन्ना

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने राज्य में वैक्सीन की बर्बादी के विषय पर कहा है कि झूठ-फरेब औऱ जुमलेबाजी के सहारे केंद्र सरकार राज्य को बदनाम कर रही है. आंकड़ों के बाजीगरी औऱ फर्जी आंकड़े जारी करने का मकसद ठीक नहीं.

फर्जी आंकड़ों के साथ पूरे देश को गुमराह किया जा रहा है. ट्विटर पर भी उन्होंने अपनी भड़ास उतारते हुए पीएम को बताया है कि झारखंड में मात्र 4 फीसदी से कुछ ही अधिक वैक्सीन बर्बाद हुए हैं.

24 जिलों को 48,63,660 वैक्सीन भेजे गये. अभी जिलों के पास 6,56,532 वैक्सीन उपलब्ध हैं. 42,07,128 यूज किये जा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें:यास के चलते सैकड़ों गांव में नाश, 20 हजार से ज्यादा मकान डूबे

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: