BusinessJharkhandLead NewsRanchi

350 करोड़ का बोनस लौटायेगा बाजार में रौनक

  • लॉकडाउन के बाद 70 फीस इजाफे की संभावना

Ranchi:  लॉकडाउन के बाद से बाजार की चमक फीकी पड़ी थी, अब वह लौट रही है. केंद्रीय कर्मचारियों को मिले बोनस का असर इसमें देखा जा रहा है. पिछले दस दिनों से बाजार में लोगों की हलचल बढ़ी है.

Jharkhand Rai

लॉकडाउन के बाद से व्यापारी बाजार की स्थिति से चिंतित थे. फेडरेशन ऑफ झारखंड चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज की मानें तो दिवाली तक 70 प्रतिशत बाजार में इजाफा हो सकता है.

हालांकि इस दौरान कितने तक का कारोबार हो सकता है, ये तय नहीं है. क्योंकि बाजार कोरोना लॉकडाउन के बाद से प्रभावित है. राज्य में केंद्रीय कर्मचारियों की संख्या चार लाख 25 हजार है. इसमें सीसीएल के कर्मियों की संख्या सबसे अधिक है जो लगभग चार हजार है.
वहीं अन्य शाखाओं में 21 हजार और रेलवे के लगभग चार हजार कर्मी है जिन्हें लगभग 350 करोड़ रूपये बोनस मिले. केंद्र सरकार की घोषणा के अनुसार रेलवे और सीसीएल को छोड़ अन्य कर्मियों को 8.33 प्रतिशत बोनस दिया गया है.

कपड़ा व्यवसाय में 20 से 25 प्रतिशत इजाफा

कपड़ा व्यवसाय में इस दौरान 20 से 25 प्रतिशत कारोबार बढ़ा है. बीना वस्त्रालय के रतन मोदी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से अब बाजार में चमक है. पिछले कुछ दिनों में 25 प्रतिशत तक कारोबार बढ़ा है. लेकिन पिछले साल या कोरोना लॉकडाउन के बाद के आंकड़ें से ये कम है.

Samford

वहीं झारखंड फुटवियर एसोसिएशन के अध्यक्ष गुलशन कुमार सुनेजा ने बताया कि इस सेक्टर में कोई इजाफा नहीं देखा जा रहा है. लॉकडाउन के बाद जब राज्य सरकार ने फुटवियर सेक्टर को खोला तब भी मात्र पांच प्रतिशत कारोबार था और अभी भी स्थिति यही है. इन्होंने बताया कि सामान्य दिनों में हर महीने लगभग पांच करोड़ फुटवियर सेक्टर राज्य में करते थे.

बढ़ेगा कैश फ्लो

चेंबर अध्यक्ष कुणाल आजमानी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से बाजार में कैश फ्लो की कमी रही. केंद्रीय कर्मियों को बोनस मिलने के बाद बाजार में कैश फ्लो बढ़ेगा. कुणाल ने कहा कि त्योहारी सीजन में मौका है कि कैसे कैश फ्लो को बढ़ाया जाये. ज्यादातर लोग मीडिल क्लास के हैं. ऐसे में जरूरी है कि रिटेल खरीदारी को बढ़ावा मिले.

वहीं पूर्व चेंबर अध्यक्ष दीपक मारू ने बताया कि पिछले दस दिनों से बाजार में इजाफा देखा जा रहा है. कोरोना के बाद से ऐसी स्थिति है. लेकिन सावधानी काफी जरूरी है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: