ChaibasaJamshedpurJharkhand

Elephant Terror : अब ओडिशा के रास्ते झारखंड में घुसे 34 हाथी, मुसाबनी और चाकुलिया इलाके में दहशत

Jamshedpur : झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में हाथियों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है. ताजा मामला पड़ोसी राज्य ओडिशा के रास्ते मुसाबनी और चाकुलिया क्षेत्र में 34 हाथियों के घुसने का है. इससे क्षेत्र के लोगों में दहशत का माहौल है. बताया जाता है कि इसमें 17-17 हाथियों का दो झुंड है. इसे ओडिशा के वन विभाग के अधिकारियों ने गुरुवार की रात खदेड़ दिया था. उसके बाद ये हाथी झारखंड की सीमा पार करते हुए मुसाबनी और चाकुलिया में घुस आये हैं. इससे वन विभाग की चिंता भी बढ़ गई है. हाथियों का झुंड घुसने के बाद वन विभाग ने चौकसी बरतनी शुरू कर दी है.
खदेड़ा जा चुका है 70 हाथियों का झुंड
इससे पहले हाल ही में 70 हाथियों का झुंड पश्चिम बंगाल की ओर से झारखंड की सीमा में घुसा था. सरडीही के रास्ते इन हाथियों का झुंड गुड़ाबांधा और मुसाबनी घुस आने से लोगों में भय का माहौल देखा गया था. उसके बाद काफी मशक्कत कर वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने हाथियों के झुंड को ओडिशा की ओर खदेड़ा था.
बारीपदा इलाके में मचायी थी जमकर तबाही
उसके बाद ओडिशा घुसने पर हाथियों का यह झुंड चार हिस्सों में बंट गया था. फिर भी बारीपदा इलाके में हाथियों ने जमकर तबाही मचायी थी. क्षेत्र में तब खलबली मच गई थी जब जंगली हाथियों ने पांच लोगों को मार डाला था. इनमें तीन महिलाएं भी शामिल थीं. उसके बाद ही वन विभाग के अधिकारी और कर्मचारी एक्शन में आ गए थे. उन्होंने काफी मशक्त कर हाथियों को खदेड़ने का काम किया. बताया जा रहा है कि उसके बाद ही दो झुंड में बंटे 34 हाथी झारखंड की सीमा में प्रवेश कर मुसाबनी और चाकुलिया आ पहुंचे हैं.
हाथी खदेड़ने वाली क्विक रिस्पांस टीम हुई तत्पर
वन विभाग की ओर से हाथी खदेड़ने वाली क्विक रिस्पांस टीम को तत्पर कर दिया गया है. जमशेदपुर की डीएफओ ममता प्रियदर्शी ने इसे लेकर चाकुलिया के रेंजर दिग्विजय सिंह को जरूरी दिशा- निर्देश दिये हैं. इसके अलावा विभाग की ओर से पश्चिम बंगाल से हाथी खदेड़ने वाले विशेषज्ञों को भी फिर बुलाया जा रहा है ताकि किसी भी हाल में हाथी रिहायशी इलाके में घुसकर लोगों के जानमाल की क्षति नहीं कर सके.
दतैल हाथी के उत्पात से डरे-सहमे हैं क्षेत्र के लोग
इधर, चाकुलिया के रिहायशी इलाको में अब भी दतैल हाथी (TUSKER) का उत्पात लोगों की परेशानी का सबब बना हुआ है. अपने झुंड से बिछड़ा यह हाथी अकेले क्षेत्र में बेलगाम घूम रहा है. अब तो आलम यह है कि इस दतैल हाथी ने क्षेत्र के चावल मिलों के अलावा साबुन के कारखानों में भी घुसकर उत्पात मचाना शुरू कर दिया है. शाम ढ़लते ही इस हाथी का उत्पात शुरू हो जाता है. इससे क्षेत्र के लोग डरे-सहमे हैं. वन विभाग की टीम हाथी का उत्पात रोकने के लिए तरह-तरह के उपाय करने में लगी हुई है. इसके लिए जगह-जगह टायर जलाकर आग का घेरा बनाया जा रहा है, वहीं पटाखे भी फोड़े जा रहे हैं. फिर भी हाथी का उत्पात रुकने का नाम नहीं ले रहा है. इसी बीच ओडिशा से हाथियों के झुंड के क्षेत्र में घुसने से आमलोगों के साथ वन विभाग की परेशानी बढ़ गई है.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur: बड़ा दगाबाज न‍िकला भतीजा, चाचा की पत्नी और पांच साल के बेटे को भगा ले गया, ये रही पूरी कहानी

Related Articles

Back to top button