JharkhandRanchi

टैब विवाद में 31 हजार स्कूलों में काम बंद, शिक्षा परियोजना और शिक्षा विभाग ने उलझाया मामला

Ranchi :  राज्य के सरकारी स्कूलों में ई-विद्यावाहिनी एप के माध्यम से स्कूलों के कामकाज के संचालन के लिए दिया गया टैब बीते दो महीने से स्कूलों में बंद पड़ा है. इससे पूर्व लोकसभा चुनाव के समय भी यह टैब बंद पड़ा रहा. इस वजह से राज्य के 31 हजार स्कूलों में ई-विद्यावाहिनी का कामकाज बंद पड़ा है. यह टैब वापस काम में कब आ पायेगा, इसकी जानकारी परियोजना निदेशक के पास भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें – सरयू की शिकायत पर डीजी रैंक के अधिकारी ने की सीआइडी ऑफिस की जांच

क्यों बंद है टैब

SIP abacus

गौरतलब है कि राज्य के स्कूलों में बांटे गये टैब में कार्यवाहक मुख्यमंत्री रघुवर दास का वीडियो संदेश टैब के खुलते ही चलता था. टैब में यह सिस्टम पहले से इनबिल्ट स्टॉल होने की वजह से इसे हटाया नहीं जा सका. इस कारण पहले लोकसभा चुनाव में और फिर अब विधानसभा चुनाव की वजह से लगभग चार माह बंद पड़ा रहा.

Sanjeevani
MDLM

पल्ला झाड़ रहे परियोजना निदेशक

इस बाबत पूछे जाने पर झारखंड शिक्षा परियोजना निदेशक उमाशंकर सिंह ने कहा कि टैब इंस्टॉल जैप आइटी की ओर से किया गया था. इस बाबत जैप आइटी को पत्र लिखा गया है. अब शिक्षा विभाग के निर्णय के बाद ही टैब मामले पर कुछ कहा जा सकता है.

वहीं जब जैप आइटी के सीइओ सर्वेश सिंघल से जानकारी लेने की कोशिश की गयी, तो उनसे फोन पर संपर्क नहीं हो सका. जबकि जैप आइटी के एक तकनीकी अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि टैब में जिस तरह का सिस्टम इनबिल्ट किया गया है, उसे हटाना आसान नहीं है. विभाग को किसी भी हालत में टैब को सभी स्कूलों से वापस लेना होगा. इसमें चलने वाला वीडियो कंपनी ही हटा सकती है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड बीजेपी को है मजबूत नेतृत्व की दरकार, पार्टी किस नेता को थमायेगी कमान ?

स्कूलों का काम रूका

वहीं प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रवक्ता नशीम अख्तर ने कहा कि विभागीय गड़बड़ी की वजह से स्कूलों का काम अटका पड़ा है. एमडीएम, स्कूल इंस्पेक्शन, अटेंडेंस सहित कई काम महीनों से नहीं हो रहे हैं. शिक्षकों का कहना है कि जब से यह टैब मिला है, तब से कभी सही तरीके से काम नहीं किया है.

तकनीकी रूप से आउटडेटेड है टैब

शिक्षा विभाग की तरफ से जिस टैब की खरीदारी की गयी है, वो एचपी प्रो 8 मॉडल का टैब है. इस टैब की स्थिति ऐसी है कि यह टैब ना ऑनलाइन उपलब्ध है और ना ही ऑफलाइन. यहां तक कि इसे कल-पूर्जे भी बाजार से ऑउटडेटेड हो चुके हैं.

अगर किसी तरह की खराबी टैब में आ जाए तो शायद ही इस टैब को दोबारा से दुरुस्त नहीं किया जा सकता है. इस 4 जीबी रैम के जमाने में जिस टैब की खरीदारी सरकार ने की है, वो 2 जीबी रैम है. इंटरनल मेमोरी सिर्फ 16 जीबी की है.

इसे भी पढ़ें –रघुवर दास के अलावा बीजेपी के वो विलेन जिसने पार्टी का बेड़ा गर्क किया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button