न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजधानी में 30 PCR, 15 हाइवे पेट्रोलिंग टीम, 100 टाइगर मोबाइल और 40 शक्ति कमांडो मिलकर भी नहीं रोक पा रहे आपराधिक घटनाएं

38

Ranchi : राजधानी रांची में अपराधी एक के बाद एक आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते रहे हैं. अपराधी लूट, चोरी, छिनतई और हत्या जैसी घटनाओं को कहीं भी, कभी भी अंजाम देकर आसानी से फरार हो जा रहे हैं. वहीं, पुलिस का हाल यह है कि वह ज्यादातर मामलों का खुलासा ही नहीं कर पाती है. हर घटना के होने के बाद पुलिस कहती है कि अपराधी जल्द गिरफ्तार कर लिये जायेंगे, उनकी पहचान कर ली गयी है. लेकिन, अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं हो पाती है. हाल के दिनों में रांची में हत्या, लूट, चोरी और छिनतई की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. इस तरह की घटनाओं ने पुलिस-प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल खड़ा कर दिया है. मौजूदा समय में 30 पीसीआर, 15 हाइवे पेट्रोलिंग टीम मुस्‍तैद हैं. 50 मोटरसाइकिल पर 100 टाइगर मोबाइल सुरक्षा के लिए लगाये गये हैं. 20 स्कूटी पर 40 शक्ति कमांडो तैनात हैं. 47 बीट के अफसर मिले हैं. 20 बाइक दस्ता भी है. इतने संसाधन मिलने के बावजूद आपराधिक घटनाओं पर रोक नहीं लग पा रही है.

इसे भी पढ़ें- सत्येंद्र हत्याकांड के तीन नामजद आरोपी गिरफ्तार, पूछताछ में कबूला अपराध

पुलिस से बेखौफ होकर घटनाओं को अंजाम दे रहे अपराधी

राजधानी रांची में विधि-व्यवस्था बनाये रखने के लिए और आपराधिक गतिविधियों पर नजर रखने के लिए पुलिस द्वारा टाइगर मोबाइल, पीसीआर वैन के अलावा 20 बाइक दस्ते भी शहर की सुरक्षा में तैनात किये गये हैं. इसके अलावा पुलिस मुख्यालय में कार्यरत अफसरों और जवानों को ड्यूटी पूरी करने के बाद रोज शाम में गश्त लगाने को कहा गया है. यह निर्देश वैसे पुलिसकर्मियों के लिए है, जिन्हें हेडक्वार्टर की ओर से बाइक दी गयी है. लेकिन पुलिस की हर कोशिश विफल साबित हो रही है. अपराधी बेखौफ होकर आपराधिक घटना को अंजाम दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- गढ़वा : एएसआई छह हजार रुपये घूस लेते गिरफ्तार

कुछ ऐसे मामले, जिनका पुलिस अभी तक नहीं कर पायी खुलासा

  • 01 मार्च 2018 : नामकुम थाना क्षेत्र में जमीन कारोबारी अंकुश बड़ाईक को गोली मारकर घायल कर दिया गया. इस मामले में पांच हमलावरों की पहचान कर ली गयी थी, लेकिन सबकी गिरफ्तारी नहीं हो पायी.
  • 02 मार्च 2018 : बरियातू के हरिहर सिंह रोड में शिवा लोहरा की गोली मारकर हत्या कर दी गयी. इस मामले में पुलिस ने पांच हत्यारों की पहचान कर लेने का दावा किया, लेकिन कोई पकड़ा नहीं गया.
  • 05 मार्च 2018 : तुपुदाना क्षेत्र में एक युवक की हत्या कर शव को जलाकर फेंक दिया गया. पुलिस हत्यारे का सुराग तक नहीं मिला.
  • 15 मार्च 2018 : चुटिया थाना क्षेत्र में घर में घुसकर अरुण नाग की गोली मारकर हत्या कर दी गयी. इस मामले में पांच पर प्राथमिकी दर्ज हुई, पर कोई गिरफ्तारी नहीं हुई.
  • 24 अगस्त 2018 : रातू रोड में बीटेक छात्र राकेश यादव की प्रेम प्रसंग में गोली मारकर हत्या कर दी गयी. मामले में एक आरोपी हिमांशु दुबे की गिरफ्तारी हुई, बाकी चार आरोपी आज भी फरार हैं.
  • 07 सितंबर 2018 : सीएम हाउस के सामने पूर्व एसपीओ बुधु दास की गोली मारकर हत्या कर दी गयी. पुलिस ने शूटर की पहचान कर लेने का दावा किया, लेकिन किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई.
  • 12 सितंबर 2018 : विधानसभा के पास दंपती से पांच लाख रुपये के जेवर की लूट हुई. मामले में आज तक कोई अपराधी नहीं पड़ा गया.
  • 24 अक्टूबर को रांची में चार घंटे के अंदर तीन पेट्रोल पंप में लूट की घटना को अंजाम दिया गया, लेकिन अभी तक कोई अपराधी गिरफ्तार नहीं हुआ है.

नाबालिग लड़के भी दे रहे हैं आपराधिक घटनों को अंजाम

रांची में मोबाइल फोन की चोरी व छिनतई की घटनाओं में तेजी से इजाफा हुआ है. खास बात यह है कि ऐसी वारदातों को नाबालिग लड़के अंजाम दे रहे हैं. हाल ही में लालपुर पुलिस द्वारा मोबाइल चोरी के आरोप में पकड़े गये चार नाबालिगों से पूछताछ के क्रम में इस बात का खुलासा हुआ.

इसे भी पढ़ें- आजसू प्रमुख सुदेश महतो ने कोर्ट में किया सरेंडर

मौजूदा समय में पुलिस की स्थिति

  1. सिपाही : 3000
  2. हवलदार : 827
  3. एएसआई : 260
  4. एसआई : 215
  5. पुलिस निरीक्षक : 32
  6. डीएसपी : 10
  7. एसपी : तीन
  8. एसएसपी : एक
  9. पीसीआर : 30
  10. हाइवे पेट्रोल : 15
  11. टाइगर जवान : 100
  12. शक्ति कमांडो : 40
  13. बीट जवान : 47
  14. आर्मर : 8

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: