Uncategorized

30 घंटे तक तड़पते रहे मरीज, स्वास्थ्य सचिव से वार्ता के बाद जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल खत्म (देखें वीडियो)

Ranchi: राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में बीते मंगलवार से जारी जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल 30 घंटे के बाद खत्म हो गयी. रिम्स में कार्यरत जूनियर डॉक्टरों ने काम पर जाने की घोषणा कर दी. दरअसल जुनियर डॉक्टर एसोसिएशन रिम्स परिसर में पुलिस पिकेट का निर्माण और वार्डों में सुरक्षा की मांग को लेकर डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गए थे. हड़ताल की वजह से रिम्स में आने वाले मरीजों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ा. हालांकि मौखिक आश्वासन के बाद जूनियर डॉक्टरों ने काम पर जाने का ऐलान कर दिया है. 

इसे भी पढ़ेंः जूनियर डॉक्टरों और मरीज के परिजनों के बीच मारपीट, रिम्स के 700 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर (देखें वीडियो)

क्या था मामला

Sanjeevani

गौरतलब है कि सोमवार को जूनियर डॉक्टर्स के साथ मरीज़ के परिजनों द्वारा दुर्व्यवहार के बाद अपनी सुरक्षा और दोषी पर कार्रवाई की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गए थे. कल रिम्स प्रबंधन और प्रशासन के साथ तक़रीबन 3 घंटे की लंबी वार्ता के बावजूद कोई नतीजा नहीं निकला था. जिसके बाद जूनियर डॉक्टरों का हड़ताल जारी था. वहीं हड़ताल के निष्पादन के लिय स्वास्थ्य सचिव सुधीर त्रिपाठी खुद रिम्स पहुंचे और डॉक्टरों से वार्ता की. स्वास्थ्य सचिव ने वार्ता के बाद डॉक्टरों की मांग पर अपनी सहमति जाता दी है.

इसे भी पढ़ेंः जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से बेहाल हुए मरीज, वीआईपी कैदी का उपाधीक्षक ने किया इलाज

डॉक्टरों की सुरक्षा पर विभाग सजग: स्वास्थ्य सचिव

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के विषय पर स्वास्थ्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि रिम्स में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया जाएगा. जायजा लेने के बाद आवश्यकता पड़ने पर पुलिस पिकेट का निर्माण किया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंः रिम्स बना अखाड़ा, जूनियर डॉक्टर और मरीज के परिजनों के बीच मारपीट और गाली-गलौज

मांग पर बनी सहमती, जूनियर डॉक्टर लौटे काम पर

जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ अजीत ने कहा कि तमाम मांगों पर सहमति बन गयी है. उन्होंने कहा कि हड़ताल वापसी की घोषणा कर दी गयी है. वहीं दोपहर डेढ़ बजे से जूनियर डॉक्टरों ने स्वास्थ्य सेवा की ज़िम्मेदारी फिर से संभाल ली है.

बहरहाल भले ही रिम्स में डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म कर दी गयी है. लेकिन हड़ताल के दौरान मरीज़ों को जो परेशानी हुई और स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरायी इसकी जवाबदेही किसकी होगी यह एक बड़ा सवाल है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button