न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

294 बच्चों की आंखों की हुई जांच, 49 बच्चों को मिलेगा चश्मा

21

Ranchi : विश्व दृष्टि दिवस के अवसर पर जिला अंधापन नियंत्रण समिति एवं शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में गुरुवार को बच्चों की आंखों की जांच की गयी. इसमें रातू एवं ओरमांझी प्रखंड के अलग-अलग स्कूलों की स्क्रीनिंग के पश्चात नेत्र दोष से ग्रसित लगभग 294 बच्चों के नेत्रों की जांच की गयी. इसमें लगभग 49 बच्चों को चश्मे की आवश्यकता पायी गयी. इन सभी बच्चों को जिला अंधापन नियंत्रण समिति द्वारा चश्मा उपलब्ध कराने की बात कही गयी. कार्यक्रम को सफल बनाने मे नेत्र सहायक चिकित्सकों की टीम मे  अभिमन्यु लोकेश, उमाशंकर कुमार राजेश, बन्ने उरांव, मो. सफी असलम परवेज, विकास पासवान, अखौरी बिरेंद्र प्रसाद, सुरेंद्र चौधरी एवं शिक्षा विभाग की ओर से रिसोर्स प्रभारी, नारायण प्रसाद, राजीव प्रसाद, हैदर रजा, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. रेणु बाखला का सहयोग रहा.

इसे भी पढ़ें- कैसे आयुष्मान होगा भारत, दिल में छेद वाली बबीता का गोल्डेन कार्ड वैल्यूलेस, पीएम की चिट्ठी की भी…

31 अक्टूबर तक मनाया जाना है विश्व दृष्टि दिवस

विदित हो कि विश्व दृष्टि दिवस 31 अक्टूबर तक मनाया जा रहा है. इस वर्ष का थीम है बच्चों में अंधापन एवं बचाव. इसी थीम के तहत विभिन्न स्कूलों में स्क्रीनिंग की गयी थी, जहां स्कूल के शिक्षकों द्वारा इन बच्चों को जांच के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ओरमांझी एवं रातू ले जाया गया. यहां जिला अंधापन नियंत्रण समिति रांची की ओर से नेत्र सहायक चिकित्सकों की टीम बच्चों की नेत्र जांच के लिए मौजूद थी.

इसे भी पढ़ें- रांची : सिविल सर्जन कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठे एनएचएम कर्मचारी

palamu_12

बच्चे रिफरेक्टिव एरर, विटामिन ए की कमी से ग्रसित मिले

जांच के क्रम में मुख्य रूप से बच्चों में रिफरेक्टिव एरर, विटामिन ए की कमी, जिरोसिस, आंखों से पानी आना, लाली, सिर दर्द, आंखों मे दर्द एवं अन्य समस्याएं पायी गयीं. वहीं, इस मौके पर सभी बच्चों को जांच के साथ दृष्टि संरक्षण के बारे में जानकारी दी गयी. अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ नीलम चौधरी ने बताया कि यह कार्यक्रम 31 अक्टूबर तक चलाया जायेगा. हमारी कोशिश है कि ज्यादा से ज्यादा बच्चों को इस कार्यक्रम का लाभ मिल सके.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: