न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य के 60,46,931 बीपीएल परिवारों में से 29,04,071 को ही मिला प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन

झारखंड में 19 अगस्त 2016 को शुरू हुई थी योजना

758

Ranchi: झारखंड में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना की उपलब्धि आधे से भी कम है. राज्य के नये बीपीएल परिवारों की संख्या 60,46,931 में से सिर्फ 29,04,071 परिवारों को ही केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना का लाभ मिल पाया है.

mi banner add

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय की तरफ से 29 अप्रैल 2019 को जारी किये गये आंकड़े में इन बातों को स्पष्ट किया गया है. यानी बीपीएल परिवारों में से 48.02 प्रतिशत परिजनों को ही स्वच्छ ईंधन देने में सरकार अब तक सफल हो पायी है.

इसे भी पढ़ेंःचार सालों में बिजली का उत्पादन 230 MW घटा, मांग 400MW बढ़ी, नतीजा खरीदनी पड़ रही महंगी बिजली

राज्य में दुमका से इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 अगस्त 2016 को की थी. इस दौरान पहले पांच माह में 5,36,912 कनेक्शन ही दिये गये.

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय की तरफ से 20 जुलाई 2018 तक झारखंड को उज्जवला योजना के तहत मात्र 17,26,463 कनेक्शन ही दिये गये थे.

रसोई गैस फिलिंग करनेवाली इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के अधिकारियों का कहना है कि 2017-18 में झारखंड के लिए 8.283 लाख नये कनेक्शन केंद्र सरकार की तरफ से जारी किये गये.

वहीं 2018-19 में सिर्फ 3.943 लाख नये कनेक्शन ही रिलीज किये गये. इसमें उज्जवला योजना के तहत बीपीएल परिवारों को गैस कनेक्शन दिये जाने का सरकार का काफी दवाब भी था.

लेकिन तय लक्ष्य की तुलना में उज्जवला योजना का कनेक्शन काफी कम दिया गया.

राज्य में रसोई गैस की खपत अखिल भारतीय स्तर से काफी कम

जानकारी के अनुसार, झारखंड में स्वच्छ ईंधन (रसोई गैस) की खपत राष्ट्रीय औसत की तुलना में काफी कम है. 1 अप्रैल 2016 को झारखंड के सिर्फ 27.9 फीसदी लोगों के पास ही रसोई गैस का कनेक्शन था.

इसे भी पढ़ेंःपिछले एक साल से देवघर में अंडरग्राउंड केबलिंग के नाम पर आठ-आठ घंटे काटी जा रही बिजली

यह एक जनवरी 2017 को बढ़कर 31.3 फीसदी तक पहुंचा. फिलहाल 35 से 37 फीसदी लोग ही रसोई गैस का उपयोग झारखंड में कर रहे हैं.

उज्जवला योजना में महिलाओं को देना है कनेक्शन

पीएम उज्जवला योजना के तहत बीपीएल परिवार की महिलाओं के नाम से कनेक्शन दिया जाना है. इसके लिए लाभुक महिला का जन धन खाता और आधार नंबर भी होना चाहिए.

सरकार की तरफ से इस योजना में प्रत्येक परिवार को 16 सौ रुपये की वित्तीय सहायता भी एलपीजी कनेक्शन दिये जाने के लिए दी जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःह्रदयविदारक घटना : फंदे पर तीन दिनों से झूल रहा था पिता का शव, विक्षिप्त बेटा नोच-नोच कर…   

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: