National

देहरादून से करीब 280 कश्मीरी छात्र मोहाली पहुंचे, घाटी के लिए होंगे रवाना

Chandigarh : पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद देहरादून में कश्मीरी छात्रों से बदसलूकी की खबरों के बीच घाटी के 300 से अधिक छात्र अपने घर वापस जाने के लिए उत्तराखंड और हरियाणा से मोहाली पहुंचे हैं. एक छात्र संगठन ने पंजाब में इनके रहने का प्रबंध किया है. उत्तराखंड की राजधानी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी युवकों ने आरोप लगाया है कि उनके साथ बदसलूकी की गई और उनके मकान मालिकों के उन्हें मकान खाली करने के लिए भी कहा क्योंकि उन्हें (मकान मालिकों) डर था कि छात्रों की वजह से उनकी संपत्ति पर हमला किया जायेगा.

पुलवामा जिले में 14 फरवरी को हुए हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे. जम्मू-कश्मीर के छात्र संगठन के अध्यक्ष ख्वाजा इतरत ने बताया कि पिछले दो दिनों में करीब 280 छात्र देहरादून से और करीब 30 छात्र हरियाणा के अंबाला जिले से यहां पहुंचे हैं. उन्होंने बताया कि करीब 150 छात्र जम्मू की ओर रवाना हो चुके हैं, जहां से वे कश्मीर घाटी स्थित अपने-अपने घर जायेंगे.

छात्रावास लौटते समय अज्ञात लोगों ने उस पर हमला किया

इतरत ने कहा, ‘‘ छात्रों ने कहा था कि वह मोहाली में रुकना चाहते हैं क्योंकि वह सबसे सुरक्षित स्थान है. हमने उन्हें यहां अस्थायी रूप से रुकने में मदद की.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यहां के अधिकारी हमारा सहयोग एवं मदद कर रहे हैं. छात्रों के लिए यह काफी महत्वपूर्ण समय है क्योंकि अंतिम (फाइनल) परिक्षाएं आ रही हैं और इससे उनकी पढ़ाई में नुकसान होगा, जिसका असर उनके अंकों (ग्रेड) पर पड़ेगा.’ एक छात्र ने आरोप लगाया कि शनिवार रात अंबाला जिले के मुल्लाना स्थित छात्रावास लौटते समय अज्ञात लोगों ने उस पर हमला किया.

 किसी के साथ कोई बदसलूकी नहीं की जायेगी

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने मोहाली में रविवार को अनौपचारिक रूप से पत्रकारों से बात करते हुए सभी कश्मीरी छात्रों को अपनी सरकार द्वारा पूर्ण सुरक्षा मुहैया कराने का आश्वासन दिया था. उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि किसी के साथ कोई बदसलूकी नहीं की जायेगी. इस बीच, हरियाणा पुलिस ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के बाद प्राथमिकी दर्ज की है. वीडियो मुल्लाना इलाके का बताया जा रहा है जिसमें कुछ लोग कश्मीरी छात्रों से मकान खाली करने को कहते दिख रहे हैं.  अंबाला की पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने सोमवार को कहा, ‘‘सोशल मीडिया पर वायरल एक अन्य वीडियो में दो छात्रों को मकान खाली करने के लिए धमकाया जा रहा है.’’

अभिभावकों से भी बात कर उन्हें आश्वासन दिया

उन्होंने बताया कि अंबाला में करीब 600 कश्मीरी छात्र हैं जिनमें से 350 से 400 ने मुल्लाना के निजी विश्वविद्यालय में दाखिला ले रखा है. अधिकारी ने कहा, ‘‘ हमने छात्रों से मुलाकात कर उन्हें सुरक्षा का आश्वासन दिया. हमने उनके अभिभावकों से भी बात कर उन्हें आश्वासन दिया है. छात्र और उनके माता-पिता हमारे द्वारा उठाए कदमों से संतुष्ट हैं.’’उन्होंने कहा, ‘‘मुल्लाना के ग्रामीण लाउडस्पीकर पर घोषणा कर कश्मीरी छात्रों को उनकी सुरक्षा का आश्वासन दे रहे हैं.’’अधिकारी ने बताया कि पंचकूला सहित हरियाणा के उन शैक्षणिक संस्थानों के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है, जहां बड़ी संख्या में कश्मीरी छात्र पढ़ते हैं.

Related Articles

Back to top button