Corona_UpdatesCrime NewsJharkhandPalamu

पलामू: एमएमसीएच में 12 घंटे के भीतर दूसरी बार स्वास्थ्य कर्मचारियों से हुआ दुर्व्यवहार, हड़ताल शुरू

Palamu: पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के एमएमसीएच में 12 घंटे के भीतर दूसरी बार स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार की घटना सामने आई है.

जीएनएम कॉलेज स्थित कोविड वार्ड में इस बार मरीज के परिजनों ने स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ बुरा व्यवहार किया. घटना के बाद स्वास्थ्य कर्मचारी एक बार फिर हड़ताल पर चले गए हैं. एमएमसीएच के प्रभारी और जिले के डीडीसी शेखर जमुआर पुनः कर्मियों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं.

advt

विदित हो कि गुरुवार की सुबह 9:15 बजे एमएमसीएच के कोविड-19 वार्ड में एक महिला मरीज की मौत के बाद वहां के सीएचओ रेखा कुमारी के साथ मृतका के परिजनों ने जहां मारपीट की गई थी, वही डॉक्टर के कपड़े फाड़ दिए गए थे.

इस घटना के बाद स्वास्थ्य कर्मचारी और डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे. हालांकि आनन-फानन में दो-तीन घंटे के बाद कर्मियों को मना कर और सुरक्षा और दोषी लोगों पर एफआईआर करने का आश्वासन देकर उन्हें काम पर वापस लाया गया था. एक बार फिर दुर्व्यवहार की घटना सामने आने से प्रशासन की जमकर किरकिरी हो रही है.

इसे भी पढ़ें :रूस का बड़ा ऐलान, स्पूतनिक लाइट वर्जन सिंगल डोज में ही करेगा कोरोना का काम तमाम

सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराने के बाद ही ड्यूटी पर लौटने की चेतावनी

मेदिनी राय मेडिकल कालेज अस्पताल परिसर स्थित जीएनएम कालेज कोविड सेंटर में संक्रमित के परिजनों ने गुरुवार की शाम बवाल काटा. कर्मचारियों के साथ धक्का मुक्की की गई और पिटाई का भी प्रयास किया.

इससे आक्रोशित कर्मचारी हड़ताल पर चले गए. घटना की सूचना मिलने के बाद पलामू के डीडीसी शेखर जमुआर स्थल पर पहुंचे और कर्मचारियों से घटना की जानकारी ली.

इसे भी पढ़ें :मई के मध्य से आखिर तक कोरोना वायरस के मामले नीचे आ सकते हैं: कांग

हड़ताली कर्मचारियों ने कोविड वार्ड में सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था करने की मांग की. कहा कि सुरक्षा के लिए जवानों की तैनाती हाेने तक हड़ताल पर ही रहेंगे.

जानकारी के अनुसार एक संक्रमित मरीज की उपचार के दौरान मौत हो गई थी. इससे आक्रोशित उनके परिजन नियंत्रण कक्ष के समक्ष में हंगामा शुरू कर दिया. अफरा-तफरी में कक्ष का दरवाजा बंद करना पड़ा.

बावजूद लोगों ने मारपीट करने की कोशिश की. इससे कर्मचारी सहम गए. सूचना मिलने के बाद तमाम कर्मचारी एकजुट हुए और हड़ताल पर चले गए.

समाचार लिखे जाने तक हड़ताल जारी थी और डीडीसी कर्मचारियों से बातचीत कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें :वित्त मंत्रालय ने 17 राज्यों को राजस्व घाटा अनुदान के रूप में 9,871 करोड़ रुपये जारी किये

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: