न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची की सड़कों पर दौड़ रहीं 25 सिटी बसों का परिचालन होगा बंद

ऑपरेटर किशोर मंत्री ने नगर आयुक्त मनोज कुमार को पत्र लिखकर दी जानकारी, कहा- 31 अक्टूबर के बाद नहीं करेंगे सिटी बसों का संचालन, 66 सिटी बसें पहले ही खड़ी-खड़ी सड़ रही हैं बकरी बाजार में

23

Ranchi : शहर के पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को दुरुस्त करने के लिए रांची नगर निगम ने जिन सिटी बसों को शहर में चलाने का काम किया था, वही बसें अब निगम के लिए सिरदर्द बनती जा रही हैं. निगम ने लोगों को सस्ती परिवहन सुविधा देने के लिए 91 सिटी बसों की खरीदारी की थी. इन बसों को चलाने के लिए नगर निगम ने शहर के दो ऑपरेटर से एकरारनामा किया था. इनमें सुरेश सिंह को 66 बस और किशोर मंत्री को 25 बसों के परिचालन का जिम्मा दिया गया था. बाद में ऑपरेटर सुरेश सिंह द्वारा एकरारनामा का उल्लंघन कर देने से उन्हें सौंपी सभी 66 बसें निगम ने वापस ले ली थी, जो आज बकरी बाजार स्टोर रूम में सड़ने के कगार पर पहुंच चुकी हैं. वहीं, किशोर मंत्री द्वारा संचालित की जा रहीं 25 बसों का संचालन भी 31 अक्टूबर के बाद बंद हो जायेगा. जानकारी के मुताबिक किशोर मंत्री ने इस बाबत नगर आयुक्त को पत्र लिखकर जानकारी दे दी है. ऐसे में यह सवाल खड़ा होता है कि क्या अब बाकी बची 25 सिटी बसें भी बकरी बाजार में सड़ने के लिए खड़ी हो जायेंगी.

इसे भी पढ़ें- न्यूज विंग खास : झारखंड कैडर के 50-59 साल पार हैं 67 आईएएस, 27 साल की किरण सत्यार्थी हैं सबसे यंग…

66 सिटी बसों को चलाने में निगम के छूट चुके हैं पसीने

मालूम हो कि इससे पहले भी शहर में 66 सिटी बसों को चलाने के लिए निगम के पसीने छूट चुके हैं. निगम से ही जुड़े लोगों का कहना है कि निगम के अधिकारियों के उदासीन रवैये के कारण ही निगम की सभी 66 सिटी बसें अब कबाड़ में तब्दील हो रही हैं. इन बसों को चलाने के लिए निगम पहले ही आठ बार टेंडर निकाल चुका है, लेकिन इसके बावजूद अब तक किसी ऑपरेटर ने इस पर कोई रुचि नहीं दिखायी है. हालांकि, निगम के अधिकारियों का कहना है कि टेंडर नहीं डालने के लिए शहर के कई ऑपरेटरों ने भी बाकी बचे ऑपरेटरों पर दबाव बनाया हुआ था. आज इन सिटी बसों की हालत ऐसी हो चुकी है कि यात्रियों की जगह अब आवारा कुत्तों और कुछ आसामाजिक तत्वों का कब्जा हो गया है.

इसे भी पढ़ें- मीजल्स रूबेला के टीकाकरण में रांची फिसड्डी, 4 लाख बच्चों में डेढ़ लाख को ही लगा टीका

ऑपरेटर ने दी दलील- किराया नहीं बढ़ने से हो रहा लाखों का नुकसान

palamu_12

शहर में चल रहीं अन्य 25 सिटी बसों के संचालन का जिम्मा लेनेवाले ऑपरेटर किशोर मंत्री ने भी बसों का संचालन बंद करने के अपने फैसले की पुष्टि करते हुए न्यूज विंग को बताया कि पिछले छह माह में डीजल के मूल्यों में काफी बढ़ोतरी देखने को मिली है. इस पर उन्होंने कई बार नगर निगम के अधिकारियों से सिटी बसों का प्रति स्टैंड करीब दो रुपये किराया बढ़ाने का आग्रह किया था. इसके लिए पूर्व नगर आयुक्त शांतनु अग्रहरि के कार्यकाल में एक कमिटी भी बनायी गयी, लेकिन कमिटी का क्या निर्णय आया, कोई बैठक हुई या नहीं, इसकी भी उन्हें जानकारी नहीं दी गयी. बाद में जब उनकी जगह मनोज कुमार नगर आयुक्त बने, तो उन्होंने भी इस ओर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया. इस कारण उन्हें अब तक लाखों रुपये का नुकसान झेलना पड़ा है. किशोर मंत्री ने बताया कि उनके द्वारा चलायी जा रहीं कुल 25 सिटी बसों में हर दिन प्रति बस करीब 500 यात्री कम किराये में यात्रा करते हैं. ऐसे में अगर उक्त सभी सिटी बसें भी बंद हो जायेंगी, तो प्रतिदिन 12,500 यात्री इससे प्रभावित हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- भाजपा के लिए हॉट सीट है रांची लोकसभा सीट, कई हेवीवेट उम्मीदवार ठोंक रहे ताल

सोमवार को फाइल देखने के बाद कुछ कह पाऊंगा : नगर आयुक्त

इधर, नगर आयुक्त मनोज कुमार ने कहा कि वह इस मामले में सोमवार को फाइल देखने के बाद ही कुछ कह पायेंगे. सिटी बस ऑपरेटरों ने जुलाई में तीन महीने का नोटिस दिया था, जो अब पूरा हो गया है. उन्होंने विभाग में इससे संबंधित सारी संभावनाओं को देखते हुए एक फाइल तैयार करने को कहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: