Education & Career

बिरसा कॉलेज खूंटी की गलती से 24 परीक्षार्थियों को नहीं मिला एडमिट कार्ड, 11 फरवरी से है परीक्षा

Ranchi: झारखंड एकेडमिक काउंसिल की इंटरमीडिएट की परीक्षा 11 फरवरी से होगी. लेकिन बिरसा कॉलेज खूंटी के 24 विद्यार्थी परीक्षा से वंचित रह जायेंगे. ऐसा कॉलेज प्रशासन की गलती से हो रहा है.

विभिन्न संकाय के 24 छात्र-छात्राएं एडमिट कार्ड के लिए बिरसा कॉलेज खूंटी की तालाबंदी कर प्रदर्शन कर रहे हैं. बिरसा कॉलेज खूंटी छात्र संघ की अगुआई में बैठे ये विद्यार्थी एडमिट कार्ड की उम्मीद लगाये बैठे हैं.

इसे भी पढ़ें – IAS राहुल पुरवार होंगे झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, विनय चौबे का सीएम का प्रधान सचिव बनने का रास्ता साफ

advt

कॉलेज की गलती से छात्रों का भविष्य दांव पर

बिरसा कॉलेज खूंटी की गलती से 24 परीक्षार्थियों को एडमिट कार्ड नहीं मिल पाया है. कॉलेज की प्राचार्या एन पूर्ति ने बताया कि इन परीक्षार्थियों का परीक्षा फॉर्म सब्मिट नहीं हो पाने की वजह से एडमिट कार्ड नहीं मिल पाया है.

कंप्यूटर ऑपरेटर ने फॉर्म सब्मिट नहीं होने की सूचना नहीं दी. इस कारण एडमिट कार्ड नहीं मिला. वहीं छात्रों के प्रदर्शन के बाद जिला प्रशासन ने परीक्षार्थियों को स्पेशल एग्जामिनेशन दिलाने की बात कही है.

जिन परीक्षार्थियों को एडमिट कार्ड नहीं मिल पाया है, उनमें आर्ट संकाय के जोटो मुंडा, लालू आइंद, सिमोन पूर्ति, सूलेमान, सरिता कुमारी, ममता तिरू, नमीता भेंगरा, लक्ष्मी कुमारी, मुक्ता कुमारी, अफसाना परवीन, रंथी कुमारी, ज्योति कुमारी, मैरी मार्गेट ब्राजो, बहालेन पूर्ति, सुशीला कुमारी, मनीषा केरकेट्टा व सोंबारी पूर्ति के नाम शामिल हैं. वहीं कॉमर्स संकाय के रोशन राम मोची, अत्यांशी हंस, राजेश श्वांसी और साइंस संकाय से बादल केरकेट्टा, प्रियंका शाहदेव व राहुल बाड़ा के नाम शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – #Shaheen_Bagh :  मासूम की मौत पर सुप्रीम कोर्ट सख्त,  वकीलों के तर्क पर फटकारा, पूछा, चार माह का बच्‍चा प्रदर्शन में जायेगा क्‍या?

adv

छात्रों ने फॉर्म ही नहीं भरा

वहीं झारखंड अधिविध परिषद के सचिव महीप कुमार सिंह ने बताया कि इन छात्रों ने परीक्षा फॉर्म ही नहीं भरा तो एडमिड कार्ड कैसे मिलेगा. परीक्षा फॉर्म ऑनलाइन भराया गया है. इस फॉर्म को कभी भी देखा जा सकता है.

ऐसे में जैक की कोई जवाबदेही नहीं बनती है. उन्होंने बताया कि आज तक जैक ने एडमिट कार्ड में हुई गलतियों में सुधार किया है. ऐसे में यह कहना कि एडमिट कार्ड नहीं मिला है, गलत होगा.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand: सात सौ पंचायतों में अब भी इंटरनेट सुविधा की चुनौती, 15वें वित्त की राशि के भुगतान में आयेगा संकट

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button