न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

24 नगर निकायों में नगर विकास विभाग करेगा 24 आश्रय गृह का संचालन

23

Ranchi : शहर में इन दिनों ठंड का प्रकोप काफी बढ़ गया है. इसे देख नगर विकास विभाग ने 24 नगर निकायों में 24 आश्रय गृह संचालित करने का फैसला किया है. ये आश्रय गृह 19 नगर निकायों में चल रहे 40 आश्रय गृह के अतिरिक्त होंगे, जिन्हें विभाग पहले से ही संचालित कर रहा है. इन आश्रय गृहों को चलाने के लिए विभाग जल्द किसी एजेंसी को इसका जिम्मा देगा. मालूम हो कि राज्य के नगर निकायों में रह रहे शहरी बेघरों के लिए नगर विकास विभाग की तरफ से पहले से आश्रय गृह संचालित किये जा रहे हैं. विभाग की तरफ से 19 नगर निकायों में कुल 40 आश्रय गृह की व्यवस्था की गयी है. यह आश्रय गृह दीनदयाल अंत्योदय योजना-शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय के तत्वावधान में संचालित किये जा रहे हैं. विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इन आश्रय गृहों का जहां 26 पुराने भवनों में संचालन पूर्व से हो रहा है, वहीं अब 14 नये भवनों में भी इसका संचालन शुरू हो गया है.

छह एजेंसियों का विभाग ने किया था चयन

आश्रय व्यवस्था को संचालित करने के लिए विभाग के नगरीय प्रशासन निदेशालय ने निविदा के आधार पर छह एजेंसियों का चयन किया है. जल्द ही इन आश्रय गृहों के संचालन का जिम्मा इन एजेंसियों को सौंप दिया जायेगा, ताकि इन आश्रय गृहों का संचालन सही तरीके से हो सके.

विभाग देगा सहायता राशि : सचिव

नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह ने नगरीय प्रशासन निदेशालय को निर्देशित किया है कि ठंड को देखते हुए जल्द से जल्द उन शहरों में भी ऐसे आश्रय गृह की व्यवस्था की जाये, जहां अब तक शहरी बेघरों के लिए आश्रय गृह की व्यवस्था नहीं हो सकी है. उन्होंने कहा कि अगर इसके लिए अतिरिक्त राशि की भी जरूरत होगी, तो विभाग उसकी व्यवस्था करेगा.

3607 शहरी बेघर होने का है अनुमान

एक आकलन के मुताबिक, राज्य में लगभग 3607 शहरी बेघर हैं. इन आश्रय गृहों को बस स्टैंड, अस्पताल, सामुदायिक भवनों के आस-पास बनाया गया है और इसके प्रचार-प्रसार की भी व्यवस्था की जा रही है. विभाग इसके लिए प्रयासरत है कि शहर में वैसे लोग, जिन्हें इसकी जरूरत है, उन्हें इस आश्रय गृहों तक पहुंचाया जा सके.

इसे भी पढ़ें- न्यायिक प्रक्रिया की जटिलता में फंस जाता है एससी और एसटी समाज : रिटायर्ड जस्टिस सीएस कर्णन

इसे भी पढ़ें- एसटी महिला ने गैर एसटी पुरुष से शादी की, तो वह नहीं खरीद सकेगी आदिवासी जमीन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: