JharkhandLead NewsRanchi

24 जिला में संचालित अस्पतालों को आधुनिक सुविधाओं से युक्त करें अधिकारी : हेमंत

  • नया स्वास्थ्य भवन बनाने की फिलहाल आवश्यकता नहीं, बन कर व्यर्थ पड़े भवन पर ध्यान देने का हेमंत का निर्देश
  • स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग की समीक्षा

Ranchi : राज्य के करोड़ों लोगों को स्वास्थ्य सुविधा मिले इसके लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य के सभी 264 प्रखंड, 45 अनुमंडल और 24 जिला में संचालित अस्पतालों को आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित करने का निर्देश दिया है. हेमंत सोरेन ने कहा है कि स्थिति ऐसी हो कि सभी अस्पताल 24 घंटे काम करें.

वहीं इन अस्पतालों में आवश्यक मानव संसाधनों के लिए प्रस्ताव दें, जिससे चिकित्सकों, नर्सों, पारा मेडिकल स्टाफ समेत अन्य लोगों की कमी को पूरा किया जा सके. मुख्यमंत्री ने इसके लिए नये स्वास्थ्य भवन बनाने की जगह फिलहाल पहले से तैयार भवन जो स्वास्थ्य विभाग के काम नहीं आ रहे हैं, उन्हें ही उपयोगिता में लाने का निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री ने यह बातें गुरुवार को स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान विभागीय अधिकारियों से कहीं. इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, विकास आयुक्त केके खंडेलवाल, विभागीय सचिव नितिन मदन कुलकर्णी सहित संबंधित विभाग के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

1 लाख कर्मचारियों की उपयोगिता पर दें ध्यान

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम राज्य से टीबी जैसे रोग का समूल नाश नहीं कर सके हैं. करीब एक लाख कर्मचारी स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार के लिए काम कर रहे हैं. उनकी क्षमता का सही उपयोग करने पर अधिकारी ध्यान दें.

मुख्यमंत्री ने कहा कि एएनएम और जेएनएम के लिए युवक भी आगे आयें. स्वास्थ्य विभाग ऐसे युवाओं को प्रोत्साहित करे. सिर्फ महिलाएं ही इस क्षेत्र में हैं. इसकी पढ़ाई युवाओं को भी करनी चाहिए. स्वास्थ्य के क्षेत्र में ग्रामीणों के लिए ऐसे युवक वरदान साबित होंगे.

सेल और एमजीएम अस्पताल का सुदृढ़ीकरण करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि जमशेदपुर स्थित एमजीएम और बोकारो स्थित सेल के अस्पताल को दुरुस्त करने की दिशा में कार्य करें. एमजीएम अस्पताल के बेड, फर्श समेत अन्य जरूरी चीजों को बदल कर नया स्वरूप प्रदान करें.

बोकारो स्थित सेल अस्पताल के सुदृढ़ीकरण के लिए सेल चेयरमैन से बात कर कार्य शुरू करें. आयुष अस्पताल जो पूर्व में बने हैं, उन्हें प्रारम्भ करें. राज्य में पाये जाने वाले मेडिसिन प्लांट से संबंधित डॉक्यूमेंट तैयार होना चाहिए. इससे इन पौधों को जाननेवाले की मृत्यु के उपरांत वह ज्ञान भी मर जाता है. इस क्षेत्र में विभाग को कार्य करने की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ें : घरेलू कलह से मानसिक तनाव में आकर युवक ने फांसी लगाकर कर ली आत्महत्या

कोरोना की रिकवरी दर 97.3 प्रतिशत व मृत्यु दर 0.89 प्रतिशत

बैठक के दौरान सीएम ने कोरोना अपडेट की भी बात कही. उन्हें जानकारी दी गयी कि राज्य में 2 दिसंबर तक कोरोना की रिकवरी दर 97.3 प्रतिशत व मृत्यु दर 0.89 प्रतिशत है. चार चरण में वैक्सीन उपलब्ध कराने की योजना है. वर्तमान में कुल वैक्सीन स्टोर 245 हैं, जिसमें बढ़ोतरी की जा रही है. प्लाज्मा थेरेपी, बेड और वेंटीलेटर पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हैं.

कुल मामले 109332, एक्टिव मामले 1965, एक्टिव मामलों का दर 1.79 प्रतिशत, कुल मृत्यु 969, पीएसए ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट रिम्स रांची, एमजीएम जमशेदपुर, एसएनएमएमसी धनबाद और सदर अस्पताल रांची में प्रस्तावित है.

मेडिकल गैस पाइपलाइन सिस्टम रिम्स रांची और एमजीएम जमशेदपुर में उपलब्ध है. बिना ऑक्सिजन के 12358 बेड, ऑक्सीजन के साथ 2021, आइसीयू 577 और वेंटिलेटर 642 उपलब्ध हैं. स्टेट स्क्रीनिंग कमिटी, स्टेट टास्क फोर्स, डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स, और प्रखंड स्तर पर टास्क फोर्स का गठन कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें : अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति घोटाले में नपे वेलफेयर सुपरवाइजर पी शंकर भगत, डीसी अबु इमरान ने सभी पावर किया जब्त, चलेगी विभागीय कार्रवाई

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: