Crime NewsJharkhandKhuntiLead NewsNEWS

अड़की, मुरहू व तमाड़ में 22 कांड दर्ज हैं नक्सली सनिका ओड़ेया के खिलाफ

दो लाख का इनामी था पीएलएफआई का एरिया कमांडर

Khunti: एक दिन पूर्व पुलिस के हत्थे चढ़ा दो लाख रुपये के इनामी पीएलएफआई के एरिया कमांडर सनिका ओड़ेया उर्फ चोयता के खिलाफ तिहरे हत्याकांड सहित हत्या के नौ मामले दर्ज हैं. खूंटी के अड़की, मुरहू और तमाड़ थानों में 22 कांड दर्ज हैं. मालूम हो कि नक्सली सनिका को पुलिस ने अड़की थाना क्षेत्र के लेबेद जंगल से पिस्टल के साथ गिरफ्तार किया है.

 

एसपी आशुतोष शेखर को गुप्त सूचना मिली थी कि पीएलएफआई का एरिया कमांडर सनिका ओड़ेया उर्फ चोयता अड़की के लेबेद जंगल में भ्रमणशील है. उन्होंने तत्काल एएसपी रमेश कुमार के नेतृत्व में टीम गठित की इसके बाद पुलिस और सीआरपीएफ की टीम ने लेबेद और आसपास के जंगलों की घेराबंदी की और उसे घर दबोचा. पुलिस ने उसके पास से पीएलएफआई का कुछ लेटर हेड भी बरामद किया है.

 

25 मार्च 2014 को मुरहू के तत्कालीन और नामकोम, रांची के वर्तमान थानेदार प्रवीण झा की बोलेरो को कोटना जंगल में लैंड माइंस विस्फोट से चोयता ने उड़ा दिया था. वह 22 जुलाई 2019 को मुरहू के हेठगोवा में घटित बहुचर्चित मागो मुंडा दंपति और उनके पुत्र की हत्या में भी शामिल था.

 

Catalyst IAS
ram janam hospital

बाल सुधार गृह से फरार हुआ था

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

सनिका ओड़ेया 13-14 वर्ष की उम्र में उग्रवादी संगठन से जुड़ गया था. मुरहू प्रखंड के पंगूरा गांव निवासी चोयता अत्यंत गरीब परिवार से है. उसकी मां दूसरों के घरों में कामकर परिवार चलाती थी. इस बीच चोयता उग्रवादी संगठन पीएलएफआई से जुड़ गया. वह बचपन से ही शातिर होने के साथ क्रूर भी था. तमाड़ थाना की पुलिस ने 22 जुलाई 2015 को उसे आर्म्स एक्ट और उग्रवादी मामलों में गिरफ्तार कर जेल बाल सुधार गृह, डुमरदगा भेजी थी, जहां से वह कुछ दिनों बाद फरार हो गया था. इसके बाद से जंगलों में उसके नाम का आतंक था.

Related Articles

Back to top button