न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जंगली जानवरों के संरक्षण पर 21.25 करोड़ खर्च, फिर भी लुप्त हो रहे वन्य प्राणी

2,106
  • नेवला, सियार, भेड़िया सहित 27 जानवरों की संख्या हो रही कम
  • वन विभाग के आंकड़ों के अनुसार, झारखंड में जंगली जानवरों की संख्या 30166
  • वन्य प्राणी संरक्षण पर 21.25 करोड़ खर्च किये जाने का है प्रावधान
mi banner add

Ranchi: झारखंड के जंगलों से जंगली जानवर लुप्त होते जा रहे हैं. वन विभाग ने अपने एक्शन प्लान में जंगली जानवरों की सूची को भी शामिल किया है. सूची में 27 जंगली जानवरों की संख्या का भी उल्लेख है. विभाग के आंकड़ों के अनुसार, झारखंड में जंगली जानवरों की संख्या 30166 बताई गई है. जबकि वन्य प्राणी संरक्षण पर 21.25 करोड़ रुपये खर्च किये जाने का प्रावधान है.

सांभर, चीतल, नेवला हो रहे लुप्त

वन विभाग के आंकड़ों के अनुसार सांभर, चीतल, साहिल और नेवला की संख्या काफी कम हो गई है. झारखंड में सांभर की संख्या 45 बताई गई है. बाघ की संख्या की स्थिति स्पष्ट नहीं है. चीतल की संख्या 867, नेवला की संख्या 140 और साहिल की संख्या सिर्फ दो है. वहीं गिद्ध बीडिंग सेंटर भी शुरू नहीं हो पाया है. वन विभाग के अनुसार, प्रदेश में गिद्धों की संख्या लगभग 300 के आसपास है.

जंगली जानवरों के संरक्षण का क्या है एक्शन प्लान

वन विभाग ने जंगली जानवरों के संरक्षण के लिए एक्शन प्लान भी तैयार किया है. इसके तहत जंगल का दायरा बढ़ाने के लिए पौधारोपण को अहम बताया गया है. जानवरों के पीने के पानी के लिए चेकडैम का निर्माण और भोजन की व्यवस्था करने को प्लान में शामिल किया गया है.

जानवरों की घटती संख्या पर वन विभाग का तर्क

जानवरों की कमी पर वन विभाग का तर्क है कि वन्य जीव के पुनर्वास का आभाव है. विभाग के अनुसार बढ़ती आबादी, जानवरों द्वारा नुकसान पहुंचाये जाने के विरूद्ध प्रतिक्रिया, नई बस्तियों का विकास, रेलवे लाइन का निर्माण, सड़क निर्माण और बिजली लाइन का निर्माण के कारण जानवरों का पलायन हो रहा है.

किस जानवर की कितनी है संख्या

चीतलः 867, सांभर: 45, जंगली सुअर: 2604, भौर: 147, नीलगाय: 03, कोटरा: 477, बाघ: 03 (स्थिति स्पष्ट नहीं), तेंदुआ: 50, हड्डा: 19, भेड़िया: 135, बंदर: 17304, हनुमान(बंदर की प्रजाति):4711, हाथी: 688, भालू: 153, खरहा: 513, मोर: 858, जंगली कुत्ता: 27, जंगली गिलहरी: 202, जंगली मुर्गा: 927, धनेश: शून्य, माउस डियर: 16, लोमड़ी: 72, नेवला: 140, गिद्ध: 300, सियार: 266, जंगली बिल्ली: 26 और साहिल: 02

इसे भी पढ़ेंः कठौतिया कोल ब्लॉक की जमीन खरीद की हेराफेरी में फंसे तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी सुधीर कुमार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: