न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजधानी में 205.22 करोड़ की लागत से बननेवाली दो स्मार्ट सड़कों का हुआ शिलान्यास

चार स्मार्ट सड़कों का होना है निर्माण, इंडियन रोड कांग्रेस गाइड लाइंस के तहत बनेंगी सड़कें

1,532

Ranch: एयरपोर्ट से बिरसा चौक व बिरसा चौक से राजभवन तक बननेवाली दोनों स्मार्ट सड़कों का काम अब जल्द शुरू होगा. 205.22 करोड़ की लागत से बननेवाली इन दो स्मार्ट सड़कों का शिलान्यास सोमवार को किया गया. इस दौरान विभागीय सचिव सहित निर्माण कार्य से जुड़ी कंपनियां और जुडको के अधिकारी मौजूद थे. मालूम हो कि राजधानी में चार स्मार्ट निर्माण प्रस्तावित है. उपरोक्त दोनों सड़कों को छोड़ अन्य दो स्मार्ट सड़कों में से तीसरे का शिलान्यास जल्द करने की बात विभागीय सचिव ने कही है. वहीं चौथी सड़क के निर्माण के लिए टेंडर निकालने का काम अभी बाकी है.

कई सुविधाओं से युक्त होगी स्मार्ट सड़कें

राजधानी में जिन चार स्मार्ट सड़क बनाया जाना है, उसमें बिजली, पेयजल, सिवरेज-ड्रेनेज से लेकर एलपीजी पाइपलाइन को भी इंटीग्रेट करने की योजना है. साथ ही इन सड़कों पर साइकिल ट्रैक भी बनाया जायेगा. जिन दो सड़कों के निर्माण का शिलान्यास आज हुआ है. उसमें स्मार्ट रोड नं 1, बिरसा चौक से बिरसा मुंडा एयरपोर्ट तक 2.55 किमी की सड़क है. दूसरी स्मार्ट सड़क नं 2, राजभवन से बिरसा चौक तक 8.85 किमी का होगी. इन सड़कों के निर्माण में क्रमशः 42.52 करोड़ और 162.7 करोड़ रुपये की लागत आयेगी. स्मार्ट रोड नंबर- 3, राजभवन से कांटाटोली चौक प्रस्तावित है, का शिलान्यास होगा. साथ ही राजभवन से बूटी मोड़ तक बननेवाले स्मार्ट रोड नं 4, जो की 7.4 किमी का होगा, उसके टेंडर की गतिविधियां तेज हो गयी हैं. इन सड़कों का एक किनारा (यानी दो लेन) कम से कम 7 मीटर और अधिक से अधिक 9 मीटर चौड़ा होगा. इस तरह दोनो तरफ मिलाकर सड़कों की चौड़ाई दोगुनी (15 मीटर से 18 मीटर) तक हो जायेगी.

इंडियन रोड कांग्रेस गाइड लाइंस के तहत बनेंगी सड़कें :  सचिव

Related Posts

बोकारो : तीन साल में बनना था ढाई किलोमीटर का ओवरब्रिज, साढ़े चार साल में भी अधूरा

डीवीसी बोकारो थर्मल की विलंब से पूरी होनेवाले प्रोजेक्ट (किस्त- 01) : 134 करोड़ का है ओवरब्रिज प्रोजेक्ट

SMILE

विभागीय सचिव कहा कि राजधानी में बननेवाली उक्त स्मार्ट सड़कें इंडियन रोड कांग्रेस के गाइड लाइन्स के मुताबिक बनेंगी. वर्तमान में यहां की सड़कें जितनी चौड़ी हैं, उससे ज्यादा चौड़ाई रखने का प्रस्ताव डीपीआर में है. किसी भी हालत में इन स्मार्ट सड़कों की चौड़ाई कम नहीं होगी. पुराने डीपीआर में दी गयी चौड़ाई को नए संशोधित डीपीआर में बढा दिया गया है. इसके साथ ही सड़कों के किनारे साइकिल ट्रैक, पैदल पाथ सहित अन्य सुविधाएं भी यहां रहेंगी. सचिव ने कहा कि सड़क के किनारे सरकारी अनुपयोगी जमीन का भी पूरा इस्तेमाल किया जायेगा. इससे अगर भविष्य में सड़कों को और भी चौड़ा करने की जरुरत पड़ेगी, तो विभाग के पास जमीन उपलब्ध रहेगी.

इसे भी पढ़ेंः 60 वर्षों कांग्रेस ने गरीबी हटाने के बजाए गरीबों को मारने का काम किया : राकेश प्रसाद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: