न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2019 लोकसभा चुनाव : भाजपा और गैर कांग्रेसी ताकतों को एकजुट करने निकले केसीआर

महागठबंधन की राह में तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री केसीआर रोड़ा अटकाने को तैयार है. खबरों के अनुसार केसीआर गैर भाजपा और गैर कांग्रेसी ताकतों को एकजुट करने की कोशिश में जुट गए हैं

1,128

NewDelhi : 2019 आम चुनाव को लेकर राजनीतिक हलचल तेज हो गयी है.  एनडीए व यूपीए अपना- अपना किला मजबूत करने की कोशिश में जुट गये है. यूपीए की बात करें तो वह महागठबंधन की दिशा में आगे बढ़ रही है. बि‍हार जैसे राज्‍यों में उसे कामयाबी मिल रही है, तो यूपी में पेंच फंस रहा  है. एनडीए बिहार में कुश्वाहा के जाने के बाद अपना कुनबा बचाने में कामयाब हुआ है. लेकिन बता दें कि अब महागठबंधन की राह में तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री केसीआर रोड़ा अटकाने को तैयार है. खबरों के अनुसार केसीआर गैर भाजपा और गैर कांग्रेसी ताकतों को एकजुट करने की कोशिश में जुट गए हैं. इस क्रम में वह ओडि‍शा और पश्‍च‍िम बंगाल की यात्रा पर हैं. उनकी सोच है कि देश में भाजपा और कांग्रेस के अलावा तीसरा गठबंधन आकार ले. उनकी निगाह ओडि‍शा में बीजेडी और बंगाल में ममता बनर्जी पर है. साथ ही वह यूपी में सपा और बसपा को इसमें शामिल करना चाहते हैं.  दि‍ल्‍ली सीएम केजरीवाल भी  साथ आ सकते हें.

राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि महागठबंधन के आकार न लेने की सूरत में बड़ा फायदा भाजपा को मिलेगा. लेकिन साथ ही याद रखना होगा कि सभी क्षत्रप अपने अपने गढ़ों में मजबूत हैं. ऐसे में भाजपा इन्‍हें कैसे भेद पाएगी, इसे भी देखना होगा. बंगाल में तमाम कोशिशों और वोट शेयर बढ़ने के बावजूद भाजपा की सीटों में इजाफा नहीं हुआ है. यही हाल ओडिशा का है. हालांकि पंचायत चुनाव में भाजपा को जरूर बड़ा फायदा हुआ है. इसी क्र में महागठबंधन में तृणमूल, बीजेडी और टीआरएस जैसे बड़े प्‍लेयर के बाहर हो जाने से कांग्रेस की उम्‍मीदों को बड़ा झटका लगेगा.

नवीन पटनायक से मिले, ममता से मिलेंगे केसीआर

बता दें कि केसीआर रविवार को भुवनेश्‍वर पहुंचे यहां पर उन्‍होंने ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक से मुलाकात की. यहां  कहा, देश में भाजपा और कांग्रेस के अलावा एक सशक्‍त राजनीतिक विकल्‍प की जरूरत महसूस की जा रही है. क्षेत्रीय दल इसे पूरा कर सकते हैं. हमने इस दिशा में बातचीत शुरू कर दी है. हालांकि अब तक इस दिशा में कुछ ठोस नहीं निकला है. हम इस दिशा में बातचीत करने के लिए जल्‍द मिलेंगे. खबरों के अनुसार केसीआर राव 24 दिसंबर को कोणार्क मंदिर और जगन्नाथ मंदिर जायेंगे. भुवनेश्वर के बाद राव कोलकाता जाकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलेंगे. कोलकाता में काली माता मंदिर में पूजा के बाद वह दिल्ली जायेंगे.  25 दिसंबर से राव दो तीन दिन दिल्ली में रहेंगे.  जानकारी दी गयी हैवह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार भेंट करेंगे. इसके बाद वे सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती से भी मिल सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: