न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2016 में आरपीएफ ने अपराध के 10.68 लाख, जीआरपी ने 61,952 मामले दर्ज किये

9

News Wing

New Delhi, 13 December: राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा एकत्रित आंकड़ों के अनुसार रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने 2016 में अपराध के करीब 10.68 लाख मामले दर्ज किये थे. इससे पहले के साल में इस तरह के मामलों की संख्या 9.42 लाख थी.

2016 में महाराष्ट्र में 2,23,360 मामले किये गये दर्ज 

एनसीआरबी के वार्षिक अपराध आंकड़ों के अनुसार 2016 में महाराष्ट्र में सर्वाधिक मामले दर्ज किये गये. जिनकी संख्या 2,23,360 रही जो कुल मामलों का करीब 20.9 प्रतिशत है. 2015 में महाराष्ट्र में इस तरह के 1,96,602 मामले दर्ज किये गये थे. उत्तर प्रदेश में आरपीएफ ने कुल मामलों के 11.7 फीसदी यानी 1,24,720 मामले अपराध के दर्ज किये. दिल्ली में 2016 में 24,293 मामले दर्ज किये गये जो 2015 में 15,083 थे.

यह भी पढ़ें: कोयला घोटाला मामले में मधु कोड़ा, पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता समेत अन्य दोषी करार

silk_park

ट्रेनों तथा रेलवे के परिसरों में यात्रियों की हिफाजत करना है जीआरपी की जिम्मेदारी 

आरपीएफ सीधे रेल मंत्रालय के तहत काम करता है और उसकी प्राथमिक जिम्मेदारी रेलवे की संपत्तियों की सुरक्षा करना है. रेलवे संपत्तियों की तोड़फोड़, चोरी आदि की घटनाओं की जांच का काम आरपीएफ का होता है. दूसरी तरफ सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) संबंधित राज्य सरकारों के तहत काम करती है. जिसके अधिकार क्षेत्र में वे पदस्थ हैं. उनकी प्राथमिक जिम्मेदारी कानून व्यवस्था बनाये रखना और ट्रेनों तथा रेलवे के परिसरों में यात्रियों की हिफाजत करना है. एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार जीआरपी ने 2016 में चोरी, लूटपाट, बलात्कार, दंगा भड़काने, अपहरण और आगजनी समेत अपराध के कुल 61,952 मामले दर्ज किये थे. इसमें पिछले साल दर्ज किये गये 53,547 मामलों की तुलना में बढ़ोतरी हुई.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: