National

साढ़े चार साल में पीएम मोदी की 84 विदेश यात्राओं पर 2000 करोड़ रुपए हुए खर्च

New Delhi: मोदी सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री के विदेश दौरे और सरकारी योजनाओं के प्रचार में करीब 7200 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं. विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने बीते गुरुवार को राज्यसभा में 15 जून, 2014 से 3 दिसंबर, 2018 के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राओं का ब्योरा दिया. पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने 84 विदेश यात्राएं कीं, जिसमें जनता टैक्स के 2000 करोड़ रूपए से ज्यादा की राशि खर्च की गई है.

पीएम के विमान रखरखाव पर 1,583.18 करोड़ हुए खर्च

प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं का पूरा ब्योरा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सांसद बिनॉय विश्वम ने मांगा था. सांसद विश्वम ने पूछा था कि साल 2014 के बाद से प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं में कुल कितनी राशि खर्च की गई है. साथ ही उन्होंने देशों के नाम, प्रधानमंत्री के साथ जाने वाले मंत्रियों के नाम और हस्ताक्षर किए गए समझौतों के बारे में जानकारी मांगी थी.

इसके जवाब में विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने प्रत्येक यात्रा पर खर्च की गई राशि के बारे में बताया, जिसमें एयर इंडिया के रखरखाव की लागत और हॉटलाइन पर खर्च की गई धनराशि भी शामिल है. सिंह ने बताया कि पीएम मोदी के विमान रखरखाव पर कुल 1,583.18 करोड़ रुपये खर्च किए गए, चार्टर्ड उड़ानों पर 429.28 करोड़ रुपये और हॉटलाइन पर 9.12 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं. हालांकि, सिंह द्वारा दिए गए विवरण में मई 2017 से दिसंबर 2018 तक हॉटलाइन पर खर्च की गई राशि के बारे में जानकारी नहीं दी गई है.

योजनाओं के प्रचार-प्रसार में 52 हजार करोड़ व्यय

मोदी सरकार के साढ़ चार साल के कामकाज में सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में केंद्र सरकार ने 5200 करोड़ की राशि खर्च की है. इस साल की बात करें तो दिसंबर तक 527.96 करोड़ रुपए खर्च हुए. साल 2014-15 में सरकार ने 979.78 करोड़ खर्च किए. वही 2015-16 में योजनाओं के प्रसार पर खर्च की गई कुल राशि 1,160.16 करोड़ रुपए थी. वही साल 2016-17 में 1,264.26 करोड़, जबकि 2017-18 में 1,313.57 का खर्च जनता के दिए रुपयों से किया गया.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close