न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सेना के अफसरों के बाद अब 200 वैज्ञानिकों ने की अपील, विरोधियों को देशद्रोही बताने वाली ताकतों को न करें वोट

वैज्ञानिकों का कहना है कि विरोधियों को देशद्रोही बताने का चलन चल पड़ा है.

961

New Delhi: विरोधियों को देशद्रोही बताने और देश को बांटने वाली ताकतों के खिलाफ देश के वैज्ञानिकों ने अपील की है. करीब 200 वैज्ञानिकों ने मतदाताओं से अपील की है कि विरोधियों को देशद्रोही बताकर देश को बांटने वाली ताकतों के पक्ष में वोट ना करें.

वैज्ञानिकों का कहना है कि विरोधियों को देशद्रोही बताने का चलन चल पड़ा है. इससे लोकतंत्र को नुकसान हो रहा है. इससे पहले सेना के रिटायर अफसरों और अन्य रिटायर अधिकारियों ने राष्ट्रपति को पत्र लिख कर चुनाव में सेना के नाम का इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगायी थी.

इसे भी पढ़ें – पिछली बार नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड़ा था चुनाव, इस बार रांची लोकसभा से चुनावी मैदान में

वैज्ञानिकों का कहना है कि विरोधियों को देशद्रोही बताने का चलन न सिर्फ वैज्ञानिकों के लिये, लोकतंत्र के लिये भी बड़ा खतरा है. तीन अप्रैल को जारी बयान में वैज्ञानिकों ने कहा है कि चुने गये नेताओं ने पिछले पांच सालों में जो कदम उठाये हैं, उससे देश के वैज्ञानिक विचारों पर हमला हुआ है.

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक, इंस्टीच्यूट आफ मैथमेटिकल साइंसेंज, चेन्नई के वरिष्ठ भौतिक विज्ञानी सिताभ्रा सिन्हा ने वर्ष 1799 मैं स्पैनिश कलाकार फ्रांसिस्को गोया की एक तस्वीर का हवाला देते हुए है कि कि जब चर्चा शब्दों में बंद हो जाती है और तर्क सो जाते हैं, तब दैत्य का जन्म होता है.

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले पूर्व सैन्य प्रमुखों ने राष्ट्रपति को एक पत्र लिखकर कहा था कि सेना के राजनीतिक इस्तेमाल पर रोक लगायी जाये. इससे पहले ही हम बिल्कुल किनारे पर पहुंच जायें, हमें स्थिति को बदलनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें – डेड बोरिंग को रेन वाटर हार्वेस्टिंग में बदलने की निगम की योजना अधर में

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: