Lead NewsNational

पुलवामा हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर सहित 2 आतंकी मुठभेड़ में ढेर

पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर का भी काफी करीबी था अबू सैफुल्ला ऊर्फ लंबू

New Delhi : प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का एक शीर्ष पाकिस्तानी आतंकवादी कमांडर मारा गया है. दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के नागबेरन-तरसर वन क्षेत्र में आतंकवादियों के साथ सुरक्षा बलों के बीच सुबह मुठभेड़ हुई. इसमें दो आतंकवादी मारे गये हैं.

अधिकारियों ने शनिवार बताया कि आज की मुठभेड़ में प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े सबसे बड़े पाकिस्तानी आतंकवादी में से एक मारा गया है. अधिकारी ने कहा कि अबू सैफुल्ला, जिसे अदनान, इस्माइल और लंबू के नाम से भी जाना जाता है. यह 2017 से ही घाटी में सक्रिय था, पुलवामा जिले के त्राल के हंगलमर्ग में एनकाउंटर के दौरान एक अन्य आतंकवादी के साथ मारा गया. इतना ही नहीं, वह आतंकी मसूद अजहर का भी काफी करीबी था.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics महिला हॉकी में वंदना की हैट्रिक, भारत ने द. अफ्रीका को 4-3 से हराया, जानिये अब आगे का सफर किस पर निर्भर

advt

कई आतंकी हमलों में था शामिल

एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि वह 14 फरवरी, 2019 को हुए पुलवामा आतंकी हमले सहित कई अन्य आतंकी हमलों में शामिल था. आतंकी अदनान पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद संगठन में रऊफ अजहर, मौलाना मसूद अजहर और अम्मार का एक मजबूत सहयोगी था.

इसे भी पढ़ें :Pakur: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की हालत जर्जर, छत से टपक रहा पानी

वाहन से चलने वाले IED के विशेषज्ञ था

बताया जा रहा है कि वह वाहन से चलने वाले IED के विशेषज्ञ था, जिसका अफगानिस्तान में नियमित रूप से उपयोग किया जाता है और 2019 के पुलवामा हमले में भी इसी का उपयोग किया गया था, जिसमें भारत के करीब 40 जवान शहीद हो गए थे.

अधिकारियों ने कहा कि वह तालिबान से भी जुड़ा था. वह तल्हा सैफ और उमर का करीबी रहा है, जो मारे दिए गए हैं. एक सुरक्षा डोजियर में कहा गया है कि उसने जैश संगठन को फिर से स्थापित करने और मजबूत करने की कोशिश की और अवंतीपोरा, विशेष रूप से पुलवामा के काकपोरा और पंपोर क्षेत्रों का उपयोग नए आतंकवादी समूहों की भर्ती के लिए और हमलों को अंजाम देने के लिए अन्य भागों में उन्हें ले जाने के लिए एक हॉटबेड के रूप में किया.
उन्होंने कहा कि मारे गए आतंकवादियों के पास से एक एम-4 राइफल, एके-47 राइफल, एक ग्लॉक पिस्टल और एक अन्य पिस्टल बरामद किया गया है. दूसरे आतंकवादी की पहचान की जा रही है.

इससे पहले पुलिस सेना की एक संयुक्त टीम ने इलाके को घेर लिया आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में विशेष जानकारी के आधार पर तलाशी अभियान शुरू करने के बाद सुरक्षा बलों आतंकवादियों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई.

इस साल अब तक 87 आतंकी मारे गये

इस बीच आईजी कश्मीर, विजय कुमार ने आतंकवाद रोधी सफल ऑपरेशन के लिए सेना पुलिस को बधाई दी है. सुरक्षा बलों ने इस साल जनवरी से अब तक कश्मीर में कुछ शीर्ष कमांडरों सहित कम से कम 87 आतंकवादियों को मार गिराया है.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: