JamshedpurJharkhandSports

एमओयू के साथ टाटा स्टील और झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन का 12 साल पुराना विवाद खत्म, मिलकर करेंगे खेल का विकास

Jamshedpur : टाटा स्टील और झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन (जेबीए) के बीच करीब 12 साल से भी अधिक समय से चला आ रहा विवाद आखिरकार 26 जनवरी को दोनों के बीच एक एमओयू पर हस्ताक्षर के साथ समाप्त हो गया.  यह एमओयू टाटा स्टील और एसोसिएशन के बीच सभी लंबित मुकदमों के निपटारे और समझौते का मार्ग प्रशस्त करेगा. गुरुवार को जमशेदपुर के जेआरडी टाटा स्पोटर्स कांप्लेक्स में टाटा स्टील के वाइस प्रेसिडेंट (कारपोरेट सर्विसेज) चाणक्य चौधरी और झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन के महासचिव प्रभाकर राव ने संयुक्त रूप से आयोजित संवाददाता सम्मेलन में इसकी अधिकारिक घोषणा की. बताया गया कि टाटा स्टील और झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन दोनों मिलकर अब मोहन आहूजा स्टेडियम का पुनर्निर्माण भी करेंगे और बैडमिंटन के विकास के लिए भी काम करेंगे. इसके लिए एक बैडमिंटन डेवलपमेंट एंड एडवाइजरी कमेटी का भी गठन कर दिया गया है, जिसका चेयरमैन टाटा स्टील के चीफ प्रोटोकॉल एंड स्पोटर्स फरजान हिरजी  को बनाया गया है. यह कमेटी बैडमिंटन खिलाड़ियों को आगे लाने के लिए काम करेगी और मोहन आहूजा और जेआरडी स्पोर्टस कांप्लेक्स में उपलब्ध खेल सुविधाओं को विश्वस्तरीय बनाया जायेगा.

टाटा स्टील में खेल जीवन एक अंग  ः चौधरी

इस मौके पर टाटा स्टील के वाइस प्रेसिडेंट (कारपोरेट सर्विसेज)  चाणक्य चौधरी ने कहा कि टाटा स्टील में हम खेल को जीवन का एक अंग मानते हैं और जेबीए के साथ हमारी साझेदारी इस दिशा में एक और कदम है. उन्होंने कहा कि इस साझेदारी के अन्य फायदों के अलावा नवोदित खिलाड़ियों को न केवल सर्वश्रेष्ठ बुनियादी ढांचा मिलेगा, बल्कि सर्वश्रेष्ठ कोच भी मिलेंगे. जेबीए के महासचिव प्रभाकर राव ने कहा कि आज हम सभी के लिए यह एक ऐतिहासिक क्षण है, जब हम इस साझेदारी में प्रवेश कर रहे हैं. मोहन आहूजा स्टेडियम को अत्याधुनिक बैडमिंटन सुविधाओं के निर्माण के लिए टाटा स्टील को सौंपा जा रहा है. टाटा स्टील के साथ जेबीए जमशेदपुर के उत्साही खेल प्रेमियों के लिए हर संभव प्रयास करेगा. इस मौके पर टाटा स्टील के चीफ प्रोटोकॉल एंड स्पोटर्स फरजान हिरजी ने कहा कि पिछली बातें अतीत का हिस्सा बन चुकी हैं. हम एक साथ बैडमिंटन की बेहतरी की दिशा में आगे बढ़ेंगे.

चार माह तक चली बातचीत के बाद हुआ समझौता

इस समझौते के बारे में पूछे गये सवाल के जवाब में प्रभाकर राव और फरजान हिरजी ने बताया कि करीब चार माह तक हर मुद्दों पर बातचीत की गयी. इसमें टाटा स्टील की ओर से फरजान हिरजी, झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन के कोच विवेक कुमार, टाटा स्टील स्पोटर्स विभाग के हेड मुकुल कुमार, हेड आशीष कुमार, हरभजन सिंह समेत अन्य लोगों ने लगातार बैठकें कीं. कानूनी पहलुओं से लकर सारी चीजों पर लगातार बातचीत हुई और फिर एमओयू तक बातें हुई. उन्होंने बताया कि हालात पहले से और बेहतर होंगे और खेल के रुप में इसको विकसित किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – सरायकेला : बहन करती थी फोन पर बात, गुस्सैल भाई ने पीट-पीटकर ले ली जान

Advt

Related Articles

Back to top button