JamshedpurJharkhand

स्वर्णरेखा-खरकई उफनीं, जमशेदपुर और आदित्यपुर में बाढ़ का खतरा, केंद्रीय जल आयोग ने जारी की चेतावनी

Jamshedpur : जमशेदपुर और आदित्यपुर के तटीय इलाकों में एक बार फिर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. दरअसल गुरुवार को स्वर्णरेखा और खरकई नदी का जलस्तर डेंजर लेवल को पार कर गया है. केंद्रीय जल आयोग ने चेतावनी दी है कि गुरुवार रात तक, स्वर्णरेखा नदी के पानी का स्तर, आज सुबह के बराबर हो जाने की संभावना है. नदी किनारे के लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दी गयी है. नदी के बढ़ते जलस्तर ने जिला प्रशासन की चिंता बढा दी है. इधर स्वर्णरेखा परियोजना की ओर से गुरुवार सुबह 6.00 बजे मानगो पुल के समीप ली गयी, रीडिंग में स्वर्णरेखा का जलस्तर डेंजर लेवल 121.50 को पार कर 121.68 मीटर रिकॉर्ड किया गया है. वहीं आदित्यपुर पुल के समीप ली गयी रीडिंग में खरकई नदी का जलस्तर भी डेंजर लेवल 129.00 से बढ़कर 130.68 मीटर दर्ज हुआ है. जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. इससे पूर्व 18 जून 2008 को स्वर्णरेखा का जलस्तर 126.5 और खरकई का लेवल 137.8 मीटर पहुंचने के कारण आयी भयावह बाढ़ ने त्रासदी मचाई थी. वैसे जलस्तर की बात करें, तो वर्ष 1973 में स्वर्णरेखा का सर्वाधिक 129.82 मीटर व खरकई का 139.85 मीटर रिकॉर्ड किया गया था.

इसे भी पढ़ें- Ranchi News : 17 घंटे बाद भी नाली में बहे अजय अग्रवाल का पता नहीं, एनडीआरएफ की टीम जुटी तलाश में

जिला प्रशासन ने कराया एनाउंसमेंट, फूड पैकेट्स तैयार

जिला प्रशासन की ओर से स्थिति को देखते हुए तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं. हालांकि जिला प्रशासन की ओर से अब तक अलर्ट जारी नहीं किया गया है. पर अगले 24 घंटे जलस्तर की कड़ी मॉनिटरिंग की जायेगी. एसडीओ संदीप कुमार मीणा ने बताया कि तटीय इलाकों में टीम तैनात कर दी गई हैं. राहत शिविर तैयार हैं. फूड पैकेट्स भी तैयार कर लिए गये हैं. जेएनएसी के स्पेशल ऑफिसर कृष्ण कुमार ने बताया कि तटीय इलाकों में एनाउंसमेंट शुरू कर दिया गया है. विदित हो कि हाल ही में यास तूफान के दौरान भी जमशेदपुर के तटीय इलाकों में भारी तबाही हुई थी और बाढ़ के कारण लोगों को स्थानांतरित किया गया था.

advt

रात में चांडिल डैम के पांच गेट खोले गये, स्वर्णरेखा लबालब हुई

एसडीओ संदीप कुमार मीणा ने बताया कि बुधवार रात चांडिल डैम के पांच फाटक खोले गए हैं. इस कारण स्वर्णरेखा के जलस्तर में इजाफा हुआ है. उन्होंने बताया कि स्वर्णरेखा के तटीय इलाकों में खतरा अधिक है, क्योंकि इधर तट के बिल्कुल सटकर कई बस्तियां बसी हुई हैं.

इसे भी पढ़ें – बिहार न्यूजः पति का 39 लाख रुपए लेकर फरार पत्नी प्रेमी के साथ गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: