न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

1993 मुंबई ब्लास्ट का आरोपी और मोस्ट वांटेड अबू बकर दुबई में गिरफ्तार

भारत प्रत्यपर्ण की कोशिशें तेज

538

Dubai: 1993 मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट मामले में भारतीय एजेंसियों को बड़ी सफलता मिली है. दुबई में इस मामले में सुरक्षा एजेंसियां ने भारत के दो मोस्ट वांटेड आतंकियों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आतंकी में से एक अबू बकर है. बकर मुंबई बम धमाकों में मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक था. एजेंसियों ने खुफिया इनपुट के आधार पर उसे पकड़ा है. अबू बकर पाक अधिकृत कश्मीर में ट्रेनिंग, आरडीएक्स लाने और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के दुबई स्थित घर पर साजिश में शामिल था.

अबू बकर का पूरा नाम अबू बकर अब्दुल गफूर शेख है. जो मुहम्मद और मुस्तफा दौसा के साथ स्मगलिंग में शामिल था. बकर सोना, कपड़े और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की खाड़ी देशों से मुंबई और आस-पास के लैंडिग प्वाइंट में स्मगलिंग करता था. साल 1997 में अबू बकर के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हुआ था. उसके बाद से ही भारतीय एजेंसियां उसकी खोज में लगी थी. और अब दुबई में कामयाबी हासिल हुई है. केंद्रीय एजेंसियों के सूत्रों ने बुधवार शाम को इसकी पुष्टि की. इसके साथ ही उसके समर्पण की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है.

गौरतलब है कि 12 मार्च 1993 को मुंबई में 12 जगहों पर सिलसिलेवार बम धमाके हुए, जिसमें 257 लोग मारे गए थे. जबकि 713 लोग घायल हुए थे. यह धमाके बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज, नरसी नाथ स्ट्रीट, शिव सेना भवन, सेंचुरी बाजार, माहिम, झावेरी बाजार, सी रॉक होटल, प्लाजा सिनेमा, जूहू सेंटूर होटल, सहार हवाई अड्डा और एयरपोर्ट सेंटूर होटल के आस-पास हुए थे. इस दौरान कुल 13 बम धमाकों में 27 करोड़ रुपये की संपत्ति का नुकसान हुआ था.

Related Posts

कश्मीर में अपना चॉपर MI-17V5 मार गिराने वाले  वायुसेना  के पांच अधिकारी दोषी करार

ये अधिकारी 27 फरवरी को श्रीनगर में अपने ही हेलिकॉप्टर पर फायरिंग करने के मामले में दोषी माने गये हैं

SMILE

इस ब्लास्ट का मास्टर माइंड दाउद इब्राहिम था. मामले में 4 नवंबर 1993 को 10 हजार पन्नों की चार्जशीट दाखिल की गई, जिसमें 189 लोगों को आरोपी बनाया गया था. साल 2006 में मुंबई की अदालत ने दाऊद के अलावा टाईगर मेमन, याकूब मेमन, यूसुफ मेमन को इस धमाके का दोषी पाया था. हालांकि, मामले में दोषी मुस्तफा दौसा की साल 2017 में मुंबई के एक अस्पताल में मौत हो चुकी है, जबकि याकूब मेमन को फांसी हो चुकी है. वही दाऊद अब भी गिरफ्त से बाहर है.

इसे भी पढ़ेंः खूंटी: रनिया पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, एक नक्सली ढेर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: