न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

18000 स्कूलों में 60 दिनों से नहीं हो रही है पढ़ाई, 20 लाख बच्चे प्रभावित

3,326
  • 67000 पारा शिक्षक हैं हड़ताल पर
  • केवल MDM के लिए खुलते हैं स्कूल,  दिनभर शिक्षकों का इंतजार कर घर लौट जा रहे हैं बच्चे
mi banner add

SATYA PRAKASH PRASAD

Ranchi:  पारा शिक्षकों का आंदोलन पिछले 58 दिनों से जारी है. इससे राज्य के 18000 स्कूलों के 20 लाख बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है. इससे पता चलता है कि पारा शिक्षकों के आंदोलन के कारण राज्य की स्कूली शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गयी है. इसका अनुमान इस तथ्य से भी होता है कि राज्यभर के 40 हजार स्कूलों को चलाने का जिम्मा 35000 सरकारी शिक्षकों पर आ गया है. आंकड़ों की बात करें तो राज्य के 18 हजार स्कूलों को शिक्षक मिल ही नहीं रहे. इस वजह से इन स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह से वाधित है.  ये स्कूल हर रोज खुल तो रहे हैं, लेकिन इन स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई नहीं हो रही है. बच्चे मध्याह्न भोजन कर घर को लौट जाते हैं.

सबसे ज्यादा प्रभावित हैं अभियान स्कूल

67000 हजार पारा शिक्षकों के आंदोलन के कारण राज्य के अभियान स्कूलों में सबसे ज्यादा पढ़ाई बाधित हुई है. पूरे राज्य में 20 हजार अभियान स्कूल हैं. इनमें कक्षा एक से कक्षा पांच तक के बच्चों को पढ़ाई होती है. ये स्कूल पूरी तरह से पारा शिक्षकों पर निर्भर हैं. पारा शिक्षकों के आंदोलन के बाद से इन स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह बाधित है. वहीं कई अभियान स्कूल सिर्फ एक शिक्षक के भरोसे चल रहे हैं.

20 लाख बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह से बाधित

राज्य के 18 हजार सरकारी स्कूल पारा शिक्षकों के आंदोलन से पूरी तरह से प्रभावित है. इस वजह से 20 लाख बच्चों की पढ़ाई 60 दिनों से बाधित है. शिक्षा परियोजना के अधिकारियों के अनुसार कुल 40 हजार स्कूल में 42 लाख बच्चे पढ़ते हैं. पारा शिक्षकों के आंदोलन के कारण 18 हजार स्कूल एवं 20 लाख बच्चे पूरी तरह से प्रभावित हैं.

निजी स्कूलों को बढ़ावा देने की पहल कर रही है सरकारः पारा शिक्षक

पारा शिक्षकों के नेता संजय दुबे ने कहा कि पारा शिक्षकों के आंदोलन को गंभीरतापूर्वक नहीं लिया जा रहा है. इससे संकेत मिलता है कि सरकार निजी शिक्षा को बढ़ावा दे सकती है. अगर पारा शिक्षक सही रूप से नहीं पढ़ा रहे हैं, तो सरकार तुरंत पारा शिक्षकों को हटा दे. सरकार स्कूलों के बच्चों के साथ एवं उनके अभिभावकों के साथ गंदी राजनीति कर रही है. ताकि स्कूल बंद हो जाएं और उनकी जगह पर निजी स्कूल खुलें.

सरकार की ओर से आंदोलन खत्म करने की हो रही है पहलः सचिव

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव एपी सिंह ने कहा कि पारा शिक्षकों के आंदोलन को खत्म करने के लिए सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं. आंदोलन के कारण जो स्कूल प्रभावित हुए  हैं उनमें जिला शिक्षा पदाधिकारियों के माध्यम से नये शिक्षक भेजे जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव : भाजपा व शिवसेना के बीच खिचड़ी पक रही है, 23 को डील पक्की !

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: