न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Delhi की 1731 अवैध कॉलोनियां हुईं वैध, तो जमशेदपुर की क्यों नहीं : सरयू राय

681

Ranchi : सरकार अथवा टाटा लीज की भूमि पर अनधिकृत रूप से रह रहे जमशेदपुर के निवासियों को उक्त संपत्ति पर मालिकाना हक देने के लिए विधिसम्मत प्रक्रिया आरंभ करने को लेकर सरयू राय ने राजस्व, निबंधन व भूमि सुधार विभाग सचिव को पत्र लिखा है.

इस पत्र में उन्होंने दिल्ली का हवाला दिया है. उन्होंने कहा है कि दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में बसी अवैध कॉलोनियों में केंद्र सरकार की अनऑथोराइज्ड कॉलोनी आवास योजना के तहत वहां रह रहे लोगों को मालिकाना हक दिया जा रहा है.

Sport House

इस बाबत दिल्ली की 1731 अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों को मालिकाना हक प्रदान करने के लिए वहां के उपराज्यपाल द्वारा मिशन मोड में कार्रवाई करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection: भाजपा ने उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की, बिरंची होंगे बोकारो से उम्मीदवार, सरयू राय अब भी होल्ड पर

पहले भी लिखा था पत्र

अपने पत्र में उन्होंने लिखा है कि इस विषय में 19 जून 2019 को मैंने आपको एक पीत पत्र भेजा था जिसमें कहा गया था कि सरकार अथवा टाटा लीज की भूमि पर अनधिकृत रूप से रह रहे जमशेदपुर के निवासियों को उक्त संपत्ति पर मालिकाना हक देने के लिए विधिसम्मत प्रक्रिया आरंभ की जाये.

Mayfair 2-1-2020

इसके बाद राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग के संयुक्त सचिव द्वारा इस बारे में जमशेदपुर पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को लिखे पत्रांक 2475 (4), दिनांक 05.07.2019, के माध्यम से आपके स्तर से इस कार्य से मुझे अवगत कराया गया था.

Related Posts

#TSP के तहत क्या होना चाहिए और क्या नहीं, झारखंड में इस पर कोई नियम नहीं

ट्राइबल सब प्लान पर राज्य सरकार की पहली कार्यशाला

इसके पूर्व भी 22 अक्टूबर 2018 से जमशेदपुर के निवासियों को मालिकाना हक एवं जनसुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए मैंने आपको लिखा था. इसके बाद 03.12.2018 को फिर से पत्र लिखा गया, पर इस विषय में कोई ठोस कारवाई अबतक नहीं हुई.

इसे भी पढ़ें : कोयला का अवैध कारोबार अब धनबाद के बजाय चांडिल, रांची, रामगढ़ होते हुए, गुप्ता जी हैं संरक्षक

सीएम ने कहा था, मालिकाना हक  देना संभव नहीं

इस संबंध में मुख्यमंत्री द्वारा जमशेदपुर से एक बयान जारी कर विगत दिनों कहा गया कि जमशेदपुर की 86 बस्तियों को मालिकाना हक देना संभव नहीं है.

अब जबकि भारत सरकार ने दिल्ली की अनाधिकृत बस्तियों को मालिकाना हक देकर एक मिसाल कायम कर दी है, तब कोई कारण नहीं है कि राज्य सरकार जमशेदपुर एवं अन्य स्थानों पर अनेक वर्षों से बसी हुई ऐसी अनेक बस्तियों को मालिकाना हक नहीं दे सके.

माननीय प्रधानमंत्री द्वारा दिये गये मालिकाना हक के तर्ज पर ही जमशेदपुर एवं अन्य स्थानों पर बसी बस्तियों को भी मालिकाना हक देने की ठोस प्रक्रिया आरंभ की जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection: पहले चरण के चुनाव तक बीजेपी की चुनावी रणनीति फेल, ना पार्टी बची और ना ही गठबंधन

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like