न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कौशल विकास योजना के तहत देवघर, बोकारो, धनबाद व गिरिडीह में 16904 लोग रजिस्टर्ड, मात्र 750 को मिली नौकरी

972

Rahul Guru
Ranchi: कौशल विकास योजना केंद्र व राज्य सरकार की महत्वपूर्ण योजना है. इस योजना को लेकर डबल इंजन सरकार आमजन के बीच बड़ी-बड़ी बातें करती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री रघुवर दास इस योजना के तहत लोगों को रोजगार देने में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की बात करते हैं. वहीं राज्य में भाजपा सरकार और उनके प्रवक्ता भी कौशल विकास के आंकडों को भूनाते हैं.

Sport House

पर सच्चाई यह है कि झारखंड में कुल प्रशिक्षित लोगों में से मात्र 49 फिसदी को ही सरकार रोजगार दिला पायी है. ऐसा हम नहीं कौशल विकास की वेबसाइट के आंकड़े बता रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- बाजी तो हार गये हैं रघुवर दास!

राज्य में अब तक 51247 को मिला प्रशिक्षण

कौशल विकास की वेबसाइट के आंकड़े ही बताते हैं कि 16 सितंबर 2019 तक कौशल विकास के तहत 60416 लोग एनरोल हुए. उसमें से 293 अभी भी ट्रेनिंग ले रहे हैं. जबकि 60123 लोग ट्रेनिंग ले चुके हैं.

Mayfair 2-1-2020

ट्रेनिंग पूरा कर चुके लोगों में से ट्रेनिंग देने वाली संस्थान ने 51247 को ट्रेनिंग प्राप्त करने का सर्टिफिकेट दिया है. इस 51247 लोगों में से केवल आधे लोगों को ही सरकार नौकरी दिला पायी है.

वहीं देवघर, बोकारो, धनबाद व गिरिडीह जिले की बात करें तो यहां प्रशिक्षण का सर्टिफिकेट ले चुके 15019 लोगों में से मात्र 750 लोगों को ही रोजगार मिला है.

इसे भी पढ़ें- #RBI के बाद एशियाई विकास बैंक ने घटायी भारत की आर्थिक वृद्धि दर, अनुमान 6.5% से घटाकर 5.1 % किया

देवघर में सबसे अधिक प्रशिक्षित लोग

कौशल विकास के गणित को देखें तो देवघर जिले में 9567 लोगों ने एनरोलमेंट कराया. इसमें से 9567 लोगों ने ट्रेनिंग ली. जिसके बाद 9064 लोगों को ट्रेनिंग के बाद सर्टिफिकेट दिया गया.

इसी तरह बोकारो जिले में 4116 लोग ट्रेनिंग के लिए एनरोलमेंट कराया. बोकारो में सभी एनरोल लोगों ने ट्रेनिंग ली. जिसके बाद 3426 लोगों को ही सर्टिफिकेट दिया गया.

गिरिडीह जिले में केवल 774 लोगों ने ही ट्रेनिंग के लिए एनरोलमेंट कराया. ट्रेनिंग के बाद 609 लोगों को सर्टिफिकेट दिया गया.

धनबाद में 2747 लोग एनरोल हुए. 132 लोग अभी भी ट्रेनिंग ले रहे हैं. 2615 लोगों ने प्रशिक्षण लिया, जिसमें से 1920 लोगों को सर्टिफिकेट प्रदान किया गया.

इसे भी पढ़ें- आजसू प्रत्याशी भरत कांशी की रैली में गया था युवक, नाराज दोस्त ने मारी गोली

वेबसाइट भी नहीं देती सही जानकारी

नौकरी देने के जिस आंकड़े को डबल इंजन की सरकार के प्रवक्ता भूनाते हैं, असल में वो कितना सही है उसे बताने में कौशल विकास की वेबसाइट भी सक्षम नहीं है.

अगर चार महीने पहले अपडेट किये गये वेबसाइट के आंकड़ों को ही देखें तो सरकार के नौकरी देने का दावा प्रशंसा के लायक नहीं है. झारखंड राज्य में कुल सर्टिफिकेट प्राप्त ट्रेंड लोगों में से मात्र 49 फीसदी को ही सरकार नौकरी दिला पायी है.

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like