JharkhandRanchi

अंडमान से 160 मजदूर हवाई और 80 जलमार्ग से झारखंड आ रहे वापस

विज्ञापन

Ranchi: लॉकडाउन की वजह से देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में झारखंड के मजदूर फंसे हुए हैं. इन प्रवासी मजदूरों को वापस निकालने की कवायद राज्य सरकार कर रही है.

रेलवे मंत्रालय के सहयोग से राज्य सरकार जहां तक संभव हो रहा है, वहां से प्रवासी मजदूरों को ला रही है. जिन जगहों पर रेलवे की सुविधा नहीं है या फिर वहां से मजदूरों को लाने में दिक्कत है, वहां हवाई मार्ग से लोगों को लाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- बाबूलाल ने की श्रमिक आयोग के गठन की मांग, कहा- कामगारों को हुनर के अनुसार मिले काम

देर शाम 160 मजदूर पहुंचेंगे रांची

इस कड़ी में राज्य में संभवत: पहली बार प्रवासी मजदूरों को जल मार्ग से भी लाया जा रहा है. अंडमान निकोबार से 80 मजदूरों को जलमार्ग से कोलकाता लाया जा रहा है. वहीं शनिवार देर शाम 160 अप्रवासी मजदूर हवाई मार्ग से रांची पहुंचेंगे.

गौरतलब है कि लॉकडाउन के दौरान विमान से मजदूरों को घर लाने वाला झारखंड पहला राज्य बना. इससे पहले भी मजदूरों को फ्लाइट से झारखंड लाया गया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रयासों के बाद उन्हें वापस अपने राज्य लाया जा सका था.

मुंबई से करीब 180 प्रवासी मजदूरों को गुरूवार को एयरलिफ्ट कराया गया था. जिसके बाद शुक्रवार को करीब 60 मजदूरों को लेह से दिल्ली के लिए एयरलिफ्ट कराया गया. सभी मजदूर लद्दाख के लेह में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) में काम करते थे. सभी मजदूर दूमका के रहने वाले थे.

इसे भी पढ़ें- मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूरा होने पर कांग्रेस ने कहा- निराशा, कुप्रबंधन और पीड़ा का रहा पिछला एक साल

कहां के हैं ये मजदूर

जानकारी के मुताबिक अंडमान निकोबार में झारखंड के कुल 665 प्रवासी मजदूर फंसे हुए हैं. ये सभी मजदूर दुमका, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, पाकुड़ जिले से हैं.
राज्य सरकार की ओर से इससे पूर्व देश के विभिन्न हिस्सों से मजदूरों को लाया जा चुका है.

वहीं कोटा से 1200 मजदूरों को विशेष ट्रेन से लाया जा चुका है. अंडमान निकोबार से फिलहाल 240 मजदूरों को लाया जा रहा है. बचे हुए 425 मजदूरों को जल्द ही वापस लाने की पहल की जायेगी.

इसे भी पढ़ें- मोदी सरकार का एक साल: बंटा हुआ भारत और पाई-पाई के मोहताज राज्य

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: